• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • पापा चाहते थे मैं कॉम्पीटिशन की तैयारी करूं, मेरी ड्रैसेज को अवार्ड मिला तो उन्होंने छोड़ दी जिद
--Advertisement--

पापा चाहते थे मैं कॉम्पीटिशन की तैयारी करूं, मेरी ड्रैसेज को अवार्ड मिला तो उन्होंने छोड़ दी जिद

भानुप्रताप सिंह चौहान| जोधपुर भगत की कोठी इलाके में रहने वाले यंग फैशन डिजाइनर सुमित शर्मा का कहना है कि मेरा...

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 02:35 AM IST
पापा चाहते थे मैं कॉम्पीटिशन की तैयारी करूं, मेरी ड्रैसेज को अवार्ड मिला तो उन्होंने छोड़ दी जिद
भानुप्रताप सिंह चौहान| जोधपुर

भगत की कोठी इलाके में रहने वाले यंग फैशन डिजाइनर सुमित शर्मा का कहना है कि मेरा सपना तो बचपन से ही फैशन डिजाइनर बनने का था लेकिन मैकेनिकल इंजीनियर पापा के साथ कारोबार में हेल्प करने का सोच मैंने इंजीनियरिंग कर ली। इंजीनियरिंग के बाद पापा कमलेश शर्मा चाहते थे कि मैं कॉम्पीटिशन की तैयारी में जुट जाऊं, लेकिन मैं अपना सपना पूरा करना चाहता था। यह 2013 की बात है। पापा का मनाना मुश्किल था लेकिन उन्हीं दिनों जोधपुर में एक कांटेस्ट ग्लैमर हंट हुआ। इसमें मेरी डिजाइन की हुई ड्रैसेज को रैंप पर काफी सराहना मिली। इसके बाद पापा ने अपनी जिद छोड़ दी और मेरे लिए फैशन डिजाइनिंग फील्ड की राह खुल गई। मेरी फैमिली ने मेरा खूब सपोर्ट किया और उनके सपोर्ट की बदौलत मैं आगे बढ़ता गया। इन दिनों सुमित एक टीवी सीरियल के लिए ड्रैसेज डिजाइनिंग में बिजी हैं और ब्रेक के दौरान अपने घर आए हुए हैं। उन्होंने कहा, मैं यू-ट्यूब पर जेजे वलाया, मनीष मल्होत्रा व सव्यसाची मुखर्जी के वीडियो देख कर कुछ सीखने की कोशिश करता रहता था। इनके कलर सलेक्शन और स्टिचिंग को बारीकी से देखा और धीरे-धीरे सीखने लगा। फिर इंजीनियरिंग के बाद मैंने दिल्ली में दो साल का फैशन डिजाइनिंग का डिप्लोमा किया। जब रैंप पर ड्रैसेज उतारनी शुरू की तो कई चैलेंज भी आए। उन्होंने बताया कि कई बार ऐसा भी हुआ कि मैंने 20-30 हजार रुपए की ड्रैसेज तैयार कीं, लेकिन वे शो में सलेक्ट नहीं हो पाई। पर मैंने निराश होने की बजाय इसे चैलेंज के तौर पर लिया और मेहनत करता रहा। धीरे-धीरे एक के बाद एक शो में मेरी बनाई ड्रैसेज सलेक्ट होती गईं।

उन्होंने कहा, अगर आप फैशन डिजाइनिंग में करिअर बनाने की सोच रहे हैं तो आपको स्टेप बाय स्टेज चलना बहुत जरूरी है। लगातार प्रयास करना चाहिए जब तक सफलता न मिले। परिवार के खिलाफ जाने की बजाय परिवार का सपोर्ट हासिल करें क्योंकि इससे आप मोरल तौर पर मजबूत हो जाते हैं। उन्होंने बताया कि पिछले साल ही मेरी शादी रितिका से हुई। इस फील्ड में मुझे 10-15 दिनों तक मॉडल्स के साथ भी रहना पड़ता है, लेकिन रितिका ने इससे कभी मना नहीं किया और हमेशा मुझे आगे बढ़ाने में हेल्प करती है।

जोधपुर के फैशन डिजाइनर सुमित शर्मा इन दिनों एक टीवी सीरियल के लिए ड्रैसेज डिजाइन कर रहे हैं। इन दिनों अपने घर आए हुए हैं। सिटी भास्कर ने उनसे बातचीत की...

बंगलुरू फैशन वीक में प्रेजेंट कर चुके हैं कलेक्शन

उन्होंने बताया कि पहला शो 2013 में ग्लैमर हंट रहा। फिर 2014 में मिस्टर एंड मिस दिल्ली कॉम्पीटिशन में राजस्थानी कल्चर पर डिजाइन की हुई अपनी आउटफिट्स डिजाइन दिखाई। उसमें 3 ड्रेस सलेक्ट हुई। 2015 में हुए राष्ट्रीय गौरव अवार्ड हासिल किया। 2017 में दो बार बैंगलोर फैशन वीक में भी सुमित की बनाई ड्रैसेज सलेक्ट हुईं जिसमें वेस्टर्न और ट्रेडिशनल आउटफिट्स थे। बैंगलोर, चंडीगढ़, पूणे, दिल्ली व जयपुर में हुए कई फैशन शोज में भी अपनी ड्रेसेज की शोकेस की।

X
पापा चाहते थे मैं कॉम्पीटिशन की तैयारी करूं, मेरी ड्रैसेज को अवार्ड मिला तो उन्होंने छोड़ दी जिद
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..