जोधपुर

  • Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • अवसर आएंगे तो चुनौतियां भी साथ लाएंगे: अरोड़ा
--Advertisement--

अवसर आएंगे तो चुनौतियां भी साथ लाएंगे: अरोड़ा

जोधपुर एयरपोर्ट पर आयोजित \"गर्ल्स इन एविएशन डे\' में गर्ल्स को दिखाया एयरपोर्ट सिटी रिपोर्टर| जोधपुर कुछ...

Dainik Bhaskar

Aug 03, 2018, 03:00 AM IST
अवसर आएंगे तो चुनौतियां भी साथ लाएंगे: अरोड़ा
जोधपुर एयरपोर्ट पर आयोजित "गर्ल्स इन एविएशन डे' में गर्ल्स को दिखाया एयरपोर्ट

सिटी रिपोर्टर| जोधपुर

कुछ सालों पहले जब एविएशन सेक्टर में महिलाओं के करिअर बनाने की बात आती तो सबसे पहले एअर होस्टेस की पिक्चर सामने आती थी, क्योंकि या ताे लोगों को इस सेक्टर में अन्य करिअर ऑप्शंस की जानकारी नहीं थी या वे इससे आगे सोचना नहीं चाहते। उन्हें लगता था कि महिलाएं इस सेक्टर में काम करने के लिए कमजोर हैं, लेकिन आज इस सोच में बदलाव आया है क्योंकि महिलाअों ने साबित कर दिया है कि किसी भी क्षेत्र में वे पुरूषों से कम नहीं हैं। ये कहना था गर्ल्स इन एविएशन इंटरनेशनल (इंडिया चैप्टर) की संयोजक मीनाक्षी दुआ का। वे गुरुवार को एयरपोर्ट अथॉरिटी के सहयोग से जोधपुर एयरपोर्ट पर आयोजित "गर्ल्स इन एविएशन डे' कार्यक्रम में गर्ल्स स्टूडेंट्स काे संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि समाज की सोच में यह बदलाव लाने का श्रेय भी महिलाओं की भागीदारी, साहस और आत्मविश्वास काे जाता है। फाइटर जेट उड़ाने वाली अवनी चतुर्वेदी, भावना कांत और मोहना सिंह आज देश की महिलाओं के लिए आइडल हैं।

चीफगेस्ट जोधपुर के डीआरएम गौतम अरोड़ा ने कहा कि जहां अवसर हैं वहां चुनौतियां भी पैरेलल चलेंगी, लेकिन इन चुनौतियाें से बिना घबराए मंजिल की आेर बढ़ने वाला मुकाम हासिल कर लेता है। उन्होंने कहा कि गर्ल्स काे न्यूजपेपर रीडिंग हैबिट्स डेवलप करनी चाहिए जिससे वे देश-दुनिया की घटनाओं और बदलावों के बारे में अपडेट रह सकें। हाल ही में इंटरनेट पर वायरल एअर इंडिया पायलट अश्रिता चिंचकार और उनकी एयर होस्टेस मां पूजा चिंचकार की स्टोरी का उदाहरण देते हुए कहा कि ये किस्सा अपने अाप में महिलाओं के लिए मिसाल है। उन्होंने रेलवे सेक्टर में भी महिलाओें के लिए करिअर के अवसरों के बारे में बताया। विशिष्ट अतिथि एसीपी सीमा हिंगोनिया ने पुलिस सर्विसेज के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि किसी मेले या सार्वजनिक आयोजनों की सिक्योरिटी में जब महिला पुलिस की ड्यूटी होती है तो वहां आने वाली महिलाएं सेफ महसूस करती हैं। फिर भी यह सोच बनी हुई है कि कोई अपने घर की बेटियों को पुलिस में नहीं भेजना चाहता जबकि यह समाज सेवा का ही एक रूप है।

कार्यक्रम में सोहनलाल मनिहार गर्ल्स सीसै स्कूल और डॉ. पदमचंद बिलमकंवर गांधी गवर्नमेंट सी.सै. स्कूल से स्टूडेंट्स और टीचर्स को एयरपोर्ट विजिट भी करवाया गया। स्टूडेंट्स को टेक ऑफ, लैंडिंग, इमरजेंसी लैंडिंग, सिक्योरिटी चैक आदि के बारे में बताया गया। एयरपोर्ट डायरेक्टर जीके खरे ने स्टूडेंट्स को एविएशन से जुड़ी जानकारी दी और गर्ल्स काे किट भी गिफ्ट की गई। डीजीएम आरएस मीणा ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

X
अवसर आएंगे तो चुनौतियां भी साथ लाएंगे: अरोड़ा
Click to listen..