• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • बीजेएस में सस्ता राशन मिलने में टेंडर पास होने की अड़चन, दो माह से डिब्बे में बंद पड़ी हैं टेंडर कॉपियां
--Advertisement--

बीजेएस में सस्ता राशन मिलने में टेंडर पास होने की अड़चन, दो माह से डिब्बे में बंद पड़ी हैं टेंडर कॉपियां

अफसरों की उदासीनता के चलते बीजेएस में आम लोगों को सस्ती दरों पर सामान उपलब्ध करवाने के लिए दो साल पूर्व सहकारी...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:50 AM IST
अफसरों की उदासीनता के चलते बीजेएस में आम लोगों को सस्ती दरों पर सामान उपलब्ध करवाने के लिए दो साल पूर्व सहकारी उपभोक्ता भंडार का काउंटर खोलने की योजना पूरी नहीं हो पाई है। जोधपुर सहकारी उपभोक्ता भंडार ने बीजेएस स्थित आरटीओ आॅफिस के पास आम लोगों को सस्ती दरों पर किराणा व अन्य सामान उपलब्ध करवाने के लिए काउंटर खोलने की योजना बनाई, लेकिन दो साल बीतने के बावजूद काउंटर नहीं खुल सका है। पहले तो भंडार के लिए उपयुक्त जगह नहीं मिल पाई, बाद में एक प्लॉट मिला। खाली प्लाॅट में काउंटर खोलना संभव नहीं हुआ तो जमीन मालिक से एग्रीमेंट किया गया। एग्रीमेंट शर्तों के अनुसार भंडार ने 20 लाख रुपए एडवांस में देना तय किया ताकि उस जगह शोरूम बनाया जा सके। एग्रीमेंट में एडवांस लिए गए इस 20 लाख रुपए की राशि को किराये के रूप में ब्याज सहित लौटाने की शर्त रखी गई थी। दिसंबर में शोरूम बनकर तैयार हो गया। शोरूम मालिक ने उपभोक्ता भंडार से काउंटर खाेलने का आग्रह किया। इसी बीच भंडार प्रबंधन ने शोरूम में फर्नीचर व अन्य आइटम के लिए ई-टेंडर से 10 लाख रुपए की निविदाएं आमंत्रित कीं, लेकिन ई-टेंडर में फर्म नहीं आई। बाद में विज्ञापन के आधार पर टेंडर आमंत्रित किए गए। 12 मार्च, 2018 टेंडर भरने की अंतिम तिथि थी। टेंडर में कई फर्माें ने भाग लिया। टेंडर का समय खत्म होने के बाद टेंडर की कॉपियां टिन के डिब्बे में बंद करके ताला लगा दिया गया। तब से ये टेंडर का डिब्बा ऐसे ही बंद पड़ा है।

इसी बीच भंडार के प्रशासक व अतिरिक्त रजिस्ट्रार (अपील्स) ने भंडार महाप्रबंधक के माध्यम सहकारी समितियों के उप रजिस्ट्रार को भी टेंडर खोलने के समय को उपस्थित रहने का पत्र भिजवाया, लेकिन उप रजिस्ट्रार टेंडर खाेलने के लिए उपस्थित ही नहीं हुए। उनको वापस रिमांइडर भेजा गया, इसके बावजूद वे नहीं आए तो उपभोक्ता होलसेल भंडार के प्रशासक ने रजिस्ट्रार की कमेटी से टेंडर को खाेलने के निर्देश दिए। रजिस्ट्रार के निर्देश पर बनी कमेटी में भंडार के महाप्रबंधक, प्रभारी, लेखाकार, प्रबंधक के साथ तीन अफसर शामिल हैं। इसके बावजूद अभी तक टेंडर खोले नहीं जा सके हैं क्योंकि टेंडर प्रकिया को खाेलने के लिए किसी अधिकारी के पास समय ही नहीं मिल रहा है। इसके चलते फर्नीचर बनाने के लिए टेंडर नहीं खुल रहा है। टेंडर खुले तो काउंटर के शोरूम का फर्नीचर बने। फर्नीचर के अभाव में भंडार का काउंटर नहीं खुल रहा है।

EXPOSE

अफसरों की हठधर्मिता टेंडर में भाग नहीं लेने की

नियमों के अनुसार टेंडर क्रय कमेटी में उप रजिस्ट्रार या उनका प्रतिनिधि मेंबर नहीं होता है, लेकिन भंडार प्रशासक प्रदीप जैन ने टेंडर प्रक्रिया में उप रजिस्ट्रार प्रशांत कल्ला को उपस्थित रहने के निर्देश जारी कर दिए। कल्ला ने नियमों का हवाला देते हुए टेंडर में भाग लेने से मना कर दिया। ऐसे करते-करते 16 मई तक का समय निकल गया, लेकिन टेंडर का डिब्बा नहीं खुल पाया।

टेंडर प्रक्रिया में उपस्थित रहने का उप रजिस्ट्रार को कहा था


नियमों में ही नहीं तो मैं कैसे जाता?


क्रय कमेटी के सामने खोलेंगे


नियमों के अनुसार टेंडर क्रय कमेटी में उप रजिस्ट्रार या उनका प्रतिनिधि मेंबर नहीं होता है, लेकिन भंडार प्रशासक प्रदीप जैन ने टेंडर प्रक्रिया में उप रजिस्ट्रार प्रशांत कल्ला को उपस्थित रहने के निर्देश जारी कर दिए। कल्ला ने नियमों का हवाला देते हुए टेंडर में भाग लेने से मना कर दिया। ऐसे करते-करते 16 मई तक का समय निकल गया, लेकिन टेंडर का डिब्बा नहीं खुल पाया।

टेंडर प्रक्रिया में उपस्थित रहने का उप रजिस्ट्रार को कहा था


नियमों में ही नहीं तो मैं कैसे जाता?


क्रय कमेटी के सामने खोलेंगे


नियमों के अनुसार टेंडर क्रय कमेटी में उप रजिस्ट्रार या उनका प्रतिनिधि मेंबर नहीं होता है, लेकिन भंडार प्रशासक प्रदीप जैन ने टेंडर प्रक्रिया में उप रजिस्ट्रार प्रशांत कल्ला को उपस्थित रहने के निर्देश जारी कर दिए। कल्ला ने नियमों का हवाला देते हुए टेंडर में भाग लेने से मना कर दिया। ऐसे करते-करते 16 मई तक का समय निकल गया, लेकिन टेंडर का डिब्बा नहीं खुल पाया।

टेंडर प्रक्रिया में उपस्थित रहने का उप रजिस्ट्रार को कहा था


नियमों में ही नहीं तो मैं कैसे जाता?


क्रय कमेटी के सामने खोलेंगे