Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» लेप्रोस्कोपी सर्जरी से दर्द कम, रोगी की जल्द छुट्टी भी : डॉ. वर्मा

लेप्रोस्कोपी सर्जरी से दर्द कम, रोगी की जल्द छुट्टी भी : डॉ. वर्मा

डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज सर्जरी विभाग के सीनियर प्रोफेसर डॉ. दीपक वर्मा ने कहा कि भोजन नली में रुकावट कैंसर से अलग तरह...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 12, 2018, 04:50 AM IST

डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज सर्जरी विभाग के सीनियर प्रोफेसर डॉ. दीपक वर्मा ने कहा कि भोजन नली में रुकावट कैंसर से अलग तरह की होती हैं, जिसमें भोजन नली का निचला हिस्सा खाने के समय सही तरीके से कार्य नहीं करता है और नली का ऊपरी हिस्सा चौड़ा होकर खाने से भर जाता है। रोगी को बार-बार उल्टी होती है और वजन कम होता जाता है। दूरबीन द्वारा ऑपरेशन (लेप्रोस्कोप सर्जरी) के बाद दर्द कम होता है एवं जल्द ही अस्पताल से छुट्टी मिल जाती है। वे शनिवार को डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज के लेक्चर थिएटर में मेडिकल कॉलेज और श्रीराम हॉस्पिटल के संयुक्त तत्वावधान में शुरू हुए 56वें एएमएएसआई स्किल कोर्स और एफएमएएस-2018 परीक्षा के दूसरे दिन देश भर से आए सर्जन और पीजी स्टूडेंट्स को सं‍बोधित कर रहे थे। उन्होंने भोजन नली में आईं रुकावट के लिए विभिन्न प्रकार की जांच कर दूरबीन से होने वाली सर्जरी की विभिन्न विधियां बताईं।आयोजन समिति के सचिव डॉ. सुनील चांडक ने एएमएएसआई स्किल कोर्स और एफएमएएस-2018 परीक्षा के दूसरे दिन मोटापे को सर्जरी से दूर करते समय ध्यान रखने वाली बारीकियां बताईं। उन्होंने कहा कि आने वाला युग रोबोटिक सर्जरी का है। रोबोटिक सर्जरी राजस्थान में शुरू हो चुकी है। डॉ. चांडक ने बताया कि रोबोटिक सर्जरी से कई कैंसर बीमारियों का सटीक इलाज संभव हुआ है। रोबोटिक सर्जरी यूरोलॉजी और गायनी के प्रोसिजर में भी बहुत मददगार है। उन्होंने बताया कि दूसरे दिन हुए व्याख्यान में विख्यात सर्जन्स डॉ. ओम टाटिया, डॉ. मानस साहू, डॉ. देवर्षि, डॉ. वर्मा, डॉ. गणपत चौधरी, डॉ. रामकरण चौधरी, डॉ. दिवाकर बंसल ने हिस्सा लिया एवं गायनोकोलॉजी में डॉ. सीपी दाधीच, डॉ. सुशीला सैनी, डॉ. शशांक व डॉ. नेहा ने अपने प्रेजेंटेशन दिए। डॉ. चांडक ने बताया कि सभी प्रतिभागियों का रविवार को टेस्ट लिया जाएगा और पास होने वाले प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र दिए जाएंगे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×