• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • जलवायु परिवर्तन व अनियमित मानसून की चुनौती के चलते कृषि काे समन्वित रूप से विकसित करें: डॉ. सिंह
--Advertisement--

जलवायु परिवर्तन व अनियमित मानसून की चुनौती के चलते कृषि काे समन्वित रूप से विकसित करें: डॉ. सिंह

जोधपुर | कमला नेहरू नगर स्थित महिला पीजी कॉलेज और विज्ञान परिषद प्रयाग की जोधपुर शाखा के संयुक्त तत्वावधान में...

Dainik Bhaskar

Aug 05, 2018, 04:51 AM IST
जलवायु परिवर्तन व अनियमित मानसून की चुनौती के चलते कृषि काे समन्वित रूप से विकसित करें: डॉ. सिंह
जोधपुर | कमला नेहरू नगर स्थित महिला पीजी कॉलेज और विज्ञान परिषद प्रयाग की जोधपुर शाखा के संयुक्त तत्वावधान में प्रो. दौलतसिंह कोठारी स्मृति व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. बलराज सिंह ने कहा, कि पश्चिमी राजस्थान में कृषि के लिए जहां संभावनाएं हैं, वहां चुनौतियां भी हैं। भूमि की घटती उर्वरा शक्ति, उत्पादन की बढ़ती लागत, भंडारण और विपणन की समस्या, कृमियों का प्रकोप, कम अवधि की अधिक उपज देने वाली फसलों की कमी, जलवायु परिवर्तन और मानसून की अनियमितता बड़ी समस्या है। इन सब चुनौतियों के चलते पश्चिमी राजस्थान में कृषि काे समन्वित रूप से विकसित करने की जरूरत है। कार्यक्रम के अध्यक्ष जयनारायण व्यास शिक्षण संस्थान के अध्यक्ष प्रो. पीएम जोशी ने कहा, कि बीज बोने से लेकर फसलों की कटाई तक का काम किसानों के लिए चुनौतीपूर्ण है, लेकिन साइंटिफिक तरीकों और लेटेस्ट टैक्नोलॉजी की सहायता से जहां उत्पादन बढ़ाया जा सकता है, वहीं फसल काे खराब होने से भी बचाया जा सकता है। कार्यक्रम मेें विज्ञान परिषद जोधपुर शाखा के सभापति केएमएल माथुर ने अतिथियों का स्वागत किया। परिषद के मंत्री डॉ. डीडी ओझा ने संस्थान के उद्देश्यों और वैज्ञानिक कार्यों के बारे में बताया। कार्यक्रम में साइंटिस्ट्स, इंजीनियर्स, टीचर्स और स्टूडेंट्स उपस्थित थे। संचालन संयुक्त मंत्री राकेश श्रीवास्तव ने किया।

X
जलवायु परिवर्तन व अनियमित मानसून की चुनौती के चलते कृषि काे समन्वित रूप से विकसित करें: डॉ. सिंह
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..