• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • चातुर्मास : धर्मसभाओं में संत-साध्वियां जीवन को सार्थक करने का दे रहे संदेश
--Advertisement--

चातुर्मास : धर्मसभाओं में संत-साध्वियां जीवन को सार्थक करने का दे रहे संदेश

कम्युनिटी रिपोर्टर | जोधपुर चातुर्मास में साधकों का संत-साध्वियां मार्गदर्शन कर रहे हैं। धर्मसभाओं में जीवन को...

Dainik Bhaskar

Aug 05, 2018, 04:55 AM IST
कम्युनिटी रिपोर्टर | जोधपुर

चातुर्मास में साधकों का संत-साध्वियां मार्गदर्शन कर रहे हैं। धर्मसभाओं में जीवन को सार्थक करने का संदेश दिया जा रहा है। साधकों की भी दिनचर्या बदल गई है। सुबह जल्दी ही उठकर प्रवचनों में भाग ले रहे हैं। इन दिनों सभी साधना में लीन हैं।

क्रिया भवन में साधकों को संबोधित करते हुए विरागर| विजय महाराज ने कहा, कि मनुष्य को अभिमान नहीं करना चाहिए। यह पतन का रास्ता है। अभिमानी व्यक्ति अपना भला-बुरा नहीं समझ पाता। युवा संत देवर्षि र| विजय ने कहा, कि हमेशा धर्म की राह पर चलें। प्रवक्ता धनराज विनायकिया ने बताया, कि प्रत्येक रविवार को युवा उत्कर्ष ज्ञान शिविर का आयोजन होगा।

गुरु अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है : साध्वी दर्शनकला

राजेंद्र सूरि जैन ज्ञान मंदिर त्रिस्तुति पौधशाला में साध्वी दर्शनकला ने आचार्य जयंत सेन सूरिश्वर की पुण्यतिथि पर कहा, गुरु अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है। गुरु के बगैर जीवन में अंधकार व्याप्त हो जाता है।

जीवन सहज होना चाहिए : भक्तिर| विजय

भैरूबाग तीर्थ में मुनि भक्तिर| विजय महाराज ने कहा, कि जीवन सहज होना चाहिए। ऐसा तभी हो सकता है जब हम धर्म के अनुरूप व्यवहार करें। धर्म की राह पर चलने से मन प्रसन्न हो जाता है और सुकून मिलता है।

इच्छाओं को सीमित रखेंगे तो सुखी होंगे : प्रफुल्ल प्रभा

मुहताजी मंदिर में साध्वी प्रफुल्ल प्रभा ने कहा, कि मनुष्य को अपनी इच्छाओं को सीमित रखना चाहिए। इच्छाएं सीमित होंगी तो जीवन खुशहाल होगा। उन्होंने कहा, कि हमेशा त्याग की भावना रखें। त्याग से ही जीवन में निखार आता है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..