• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • शरीर और मन को स्वस्थ और स्फूर्त रखने के लिए योग जरूरी: शिवपूजन
--Advertisement--

शरीर और मन को स्वस्थ और स्फूर्त रखने के लिए योग जरूरी: शिवपूजन

आर्य समाज के वार्षिक उत्सव और श्रावणी पर्व के समापन पर आयोजित यज्ञ में बड़ी संख्या में यजमानों ने आहुतियां दी।...

Danik Bhaskar | Aug 06, 2018, 04:55 AM IST
आर्य समाज के वार्षिक उत्सव और श्रावणी पर्व के समापन पर आयोजित यज्ञ में बड़ी संख्या में यजमानों ने आहुतियां दी।

कम्युनिटी रिपोर्टर | जोधपुर

दिल्ली विवि में कार्यरत वेद मर्मज्ञ डॉ. शिवपूजन विद्यालंकार ने कहा, कि सब रोगों की एक ही दवा है और वह है योग। नियमित योग करेंगे तो शरीर और मन स्वस्थ व स्फूर्त रहेगा। वे रविवार को आर्य समाज शास्त्री नगर व आर्य समाज सरदारपुरा के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित वार्षिकोत्सव व श्रावणी पर्व के समापन समारोह में बतौर मुख्य वक्ता बोल रहे थे।

उन्होंने कहा, कि मानव जीवन का उद्देश्य परमेश्वर को जानना है। महर्षि दयानंद कहा करते थे, जैसी मति होती है वैसी ही गति होती है। इसलिए परमात्मा की व्यवस्था को आत्मसात करते हुए वेदों का अध्ययन करना चाहिए। उन्होंने कहा, कि प्राचीन भारत में योगी होते थे, जबकि आज रोगी होते हैं। यज्ञ बलिदान का ही दूसरा नाम है। जीवन यज्ञ के लिए ही होता है। जीवन योग के लिए होता है। जो अपने पांव का भार नहीं उठा सकता वो जीवन का भार कैसे उठाएगा?

नवनिर्मित मुख्य द्वार का लोकार्पण

आर्य समाज शास्त्री नगर के प्रधान डीपी शर्मा ने बताया, कि आर्य समाज शास्त्री नगर के भवन के नवनिर्मित भव्य मुख्य द्वार का लोकार्पण भी किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि महापौर घनश्याम ओझा थे। विशिष्ट अतिथि शहर विधायक कैलाश भंसाली थे। पंडित केशव देव आर्य ने भजन प्रस्तुत किए। सरदारपुरा के प्रधान एलपी वर्मा, संयोजक ओमप्रकाश आसेरी, राधेश्याम विद्यालंकार, हरेंद्र गुप्ता, मदनलाल गहलोत, कैलाशचंद्र आर्य, नरपत भाभा, लक्ष्मणसिंह चारण, पद्मसिंह चौधरी, बृजेश कुमार सिंह, श्यामसुंदर जोशी, राधेश्याम टाक, नरेंद्र गहलोत, बाबूलाल प्रजापत, नेमीचंद, हड़मानाराम सहित कई लोग मौजूद थे। इस अवसर पर आर्य महिला सम्मेलन भी आयोजित किया गया, जिसमें मीना शर्मा, प्रमोद कुमारी गुप्ता, शोभा आसेरी, मीना टाक, रीटा रावल, शारदा चारण सहित कई महिलाएं मौजूद थे। वार्षिकोत्सव का संयोजन मुकेश रावल ने किया। चंद्रशेखर शर्मा ने संचालन किया। आर्य समाज के मंत्री सुधांशु टाक ने आभार जताया।