Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» विश्व के 10 मशहूर शहरों में एक जोधपुर, यहां ऐसा गांव जहां बेटियाें का औसत देश के औसत से भी ज्यादा

विश्व के 10 मशहूर शहरों में एक जोधपुर, यहां ऐसा गांव जहां बेटियाें का औसत देश के औसत से भी ज्यादा

दैनिक भास्कर, जोधपुर के आज 21 साल पूरे हो चुके हैं। इन 21 सालों में मारवाड़ ने राजस्थान में ही नहीं, देश में अपनी अलग...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 03, 2018, 05:00 AM IST

  • विश्व के 10 मशहूर शहरों में एक जोधपुर, यहां ऐसा गांव जहां बेटियाें का औसत देश के औसत से भी ज्यादा
    +1और स्लाइड देखें
    दैनिक भास्कर, जोधपुर के आज 21 साल पूरे हो चुके हैं। इन 21 सालों में मारवाड़ ने राजस्थान में ही नहीं, देश में अपनी अलग पहचान बनाई है। इस सख्त और रेतीली जमीन ने विकास के नए कीर्तिमान तो बनाए ही, राजनीतिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में भी अपनी गौरवपूर्ण उपस्थिति दर्ज कराई है।

    गजसिंह, पूर्व नरेश, जोधपुर

    वर्ल्ड फेम ट्रेवल एजेंसी की टॉप लिस्ट में हम

    जोधपुर के पर्यटन ने भी पिछले 2 दशक में पूरे विश्व में अपनी छाप छोड़ी है। इस दौरान विदेशी पर्यटकों की संख्या करीब 4 गुणा बढ़कर 1.5 लाख प्रतिवर्ष तक पहुंच गई है। जोधपुर घूमने आने वाले देसी सैलानी भी तकरीबन 3 गुणा बढ़कर 9.39 लाख प्रतिवर्ष हो गए हैं। इतना ही नहीं मेहरानगढ़ राजस्थान का एकमात्र किला है जिसे यूनेस्को ने एशिया पैसिफिक हेरिटेज अवार्ड से नवाजा है। विश्व विख्यात ट्रेवल एजेंसी ट्रेवलबर्ड ने जब कला-संस्कृति, म्यूजियम, फिल्म शूटिंग, संगीत जैसे पैमानों पर दुनिया के शहरों को जांचा तो भारत से सिर्फ जोधपुर व मुंबई को शामिल किया। विश्व की टॉप टूरिज्म बेस्ड वेबसाइट ट्रिप-एडवाइजर ने विश्व के उभरते हुए टॉप-10 डेस्टिनेशंस में जोधपुर को भी रैंकिंग दी। आंकड़ों से हटकर अगर हम पर्यटक संतुष्टि के बिंदु पर जाएं तब भी जोधपुर देश के सिरमौर सिटीज में अग्रणी है।

    3.75 लाख से 11 लाख हुए पर्यटक

    मेरे गांव में 1000 बेटों पर 966 बेटियां

    एमबीए सायर कंवर, सरपंच, खाराबेरा पुरोहितान

    जिले, राज्य, देश से भी अच्छा यहां का लिंगानुपात

    जोधपुर जिले का गांव खाराबेरा पुरोहितान। यहां की महिलाएं जनसंख्या के माामले में पुरुषों के बराबर खड़ी हैं। देश का औसत लिंगानुपात 940, राजस्थान का 928 और जोधपुर जिले का 916 है, लेकिन इस गांव में प्रति हजार पुरुषों पर 966 महिलाएं हैं। इस गौरव के साथ दूसरा गौरव है, यहां की सरपंच जो एमबीए पढ़ी है। 543 घरों वाले इस गांव की आबादी 3322 है, जिसमें 49.01 फीसदी महिलाएं हैं। पुरुषों की संख्या 1690 और महिलाओं की संख्या 1632 है। सरपंच सायर कंवर ने अपने गांव में शिक्षा, खासकर महिला साक्षरता को बढ़ाने का काम हाथ में लिया है। यहां महिला साक्षरता दर 20.2% होने के कारण इस दिशा में काम हो रहा है। यहां बच्चियों को बढ़ावा देने का ही नतीजा है कि गांव की आबादी में 0 से 6 साल के बच्चों में करीब आधी लड़कियां हैं। इन बच्चों में लड़कियों की संख्या 270 से ज्यादा है। वहीं लड़कों की संख्या 312 है।

  • विश्व के 10 मशहूर शहरों में एक जोधपुर, यहां ऐसा गांव जहां बेटियाें का औसत देश के औसत से भी ज्यादा
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×