• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • परमात्मा की शरण में जाकर इंसान राग-द्वेष पर विजय प्राप्त कर सकता है: साध्वी प्रफुल्लप्रभाश्री
--Advertisement--

परमात्मा की शरण में जाकर इंसान राग-द्वेष पर विजय प्राप्त कर सकता है: साध्वी प्रफुल्लप्रभाश्री

जोधपुर| साध्वी प्रफुल्लप्रभाश्री ने कहा कि परमात्मा की शरण में जाकर इंसान राग-द्वेष पर विजय प्राप्त कर सकता है।...

Dainik Bhaskar

Aug 03, 2018, 05:01 AM IST
जोधपुर| साध्वी प्रफुल्लप्रभाश्री ने कहा कि परमात्मा की शरण में जाकर इंसान राग-द्वेष पर विजय प्राप्त कर सकता है। ईश्वर के चरणों में समर्पण कर इंसान अपना वर्तमान भव संवार सकता है। वे मुहताजी मंदिर में गुरुवार को प्रवचन दे रही थीं। उन्होंने कहा कि भगवान ने तो जय-विजय हासिल कर ली, अब परमात्मा के माध्यम से हमें जय-विजय प्राप्त करनी है। राजेंद्र सूरि जैन ज्ञान मंदिर त्रिस्तुति पौषधशाला में साध्वी दर्शनकलाश्री ने अपने प्रवचन में कहा कि तप से आत्मा परिशुद्ध होती है। तप प्रदर्शन का माध्यम नहीं है, यह तो कषाय मुक्ति और इच्छाओं पर अंकुश लगाने का अभिप्राय है। धर्म क्रिया भवन में विरागर| विजय महाराज ने कहा कि जब तक धर्म को पूर्ण और सूक्ष्म रूप से समझेंगे नहीं, तब तक आत्मकल्याण नहीं होगा। महामंदिर डंको बाजे रे जैन स्थानक में साध्वी कमलप्रभा ने कहा कि मनुष्य अगर दृढ़ इच्छा शक्ति व संकल्प के साथ काम करता है तो उसे देर-सवेर पूरा कर ही लेता है। उन्होेंने कहा कि लगातार अभ्यास करना ही सफलता की कुंजी है।

विश्व शांतिधारा महातप शुरू| सकल मूर्तिपूजक संघ के तत्वावधान में गुरुवार को विश्व शांतिधारा तप के उपवास प्रारंभ हुए, जिसमें सभी धार्मिक स्थलों पर आराधकों ने भाग लिया। धनराज विनायकिया ने बताया कि तप का 2 सितंबर को समापन होगा।

46 बच्चों ने मंत्र दीक्षा ग्रहण की

तेरापंथ युवक परिषद की ओर से गुरुवार को मंत्र दीक्षा कार्यक्रम साध्वी चांदकुमारी के सान्निध्य में आयोजित किया गया। तेरापंथ जाटाबास में आयोजित कार्यक्रम में 46 बच्चों ने मंत्र दीक्षा ग्रहण की। सहमंत्री निखिल मेहता के विजय गीत से कार्यक्रम प्रारंभ हुआ। कार्यक्रम का संचालन मंत्री मितेश जैन ने किया। कार्यक्रम का पन्नालाल कागोत, दीपचंद सुराणा, सुरेंद्र कुचेरिया के साथ युवक परिषद के पदाधिकारियों ने भाग लिया।

नाद वंश आचार्य का चातुर्मास शुरू

सदगुरु कबीर सत्य उपदेश आश्रम जालेली जोधपुर में पंथ हजूर अर्धनाम साहेब नाद वंश आचार्य का चातुर्मास गुरुवार को शोभायात्रा के साथ हुआ। इस अवसर पर अर्धनाम साहेब ने अपने उद‌्बोधन में कहा कि चातुर्मास एक सात्विक साधना सत्संग का शुभ अवसर होता है। इसके महत्व को समझकर इसका लाभ उठाने से मानव जीवन में शुद्धता प्राप्त होती है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..