• Home
  • Rajasthan News
  • Jodhpur News
  • News
  • जगन्नाथ की रथ यात्रा पवित्र है, इसके रथ के घोड़े धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष के प्रतीक हैं : राधाकृष्ण
--Advertisement--

जगन्नाथ की रथ यात्रा पवित्र है, इसके रथ के घोड़े धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष के प्रतीक हैं : राधाकृष्ण

गांधी मैदान में भक्ति रस महोत्सव के तीसरे दिन राधाकृष्ण महाराज ने साधकों का मार्गदशन किया । उन्होंने जगन्नाथ रथ...

Danik Bhaskar | Aug 04, 2018, 05:10 AM IST
गांधी मैदान में भक्ति रस महोत्सव के तीसरे दिन राधाकृष्ण महाराज ने साधकों का मार्गदशन किया । उन्होंने जगन्नाथ रथ की विशेषताएं भी बताई।

सिटी रिपोर्टर | जोधपुर

गोवत्स राधाकृष्ण महाराज ने कहा, कि भगवान जगन्नाथ जगत के नाथ यानी कि मालिक हैं, लेकिन उनका स्वरूप जगत को सादगी की प्रेरणा देता है। जगन्नाथ की रथ यात्रा पतित पावनी हैं। रथ के घोड़े धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष का प्रतीक हैं। वे शुक्रवार को गांधी मैदान में भक्ति रस महोत्सव में प्रवचन दे रहे थे। उन्होंने कहा, कि काष्ठ के रथ में जगन्नाथ भगवान की रथ यात्रा निकलती है। वे सोने के रथ का त्याग कर भक्तों से मिलने के लिए काष्ठ के रथ में विराजते हैं। ऐसे में जो भक्त रथ यात्रा में सम्मिलित होते हैं, उन पर जगन्नाथ की कृपा हो जाती है।

इस मौके पर डीसा से आए महंत रामकृष्णदास महाराज ने कहा, कि भगवान की महिमा सुनने का अवसर भगवत कथा से प्राप्त होता है। जो व्यक्ति श्रद्धा, निष्ठा से कथा श्रवण करता है, वह पाप मुक्त हो जाता है। महंत ने कहा, कि भक्ति व भाव से भगवान प्रसन्न होते हैं और भक्तों पर उनकी कृपा रहती है। इस अवसर पर सूरसागर बड़ा रामद्वारा के महंत रामप्रसाद महाराज ने पुरी उड़ीसा से आए राधावल्लभ मठ के महंत रामकृष्णदास, हरिहर दास महाराज, पूर्णचंद दास सहित अन्य संतों का अभिनंदन किया।