• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • एमडीएमएच के पीआईसीयू में केमिकल की बोतल गिरने का मामला जांच में फॉर्मोलीन के रखरखाव में लापरवाही आई सामने, बच्चे की मौत का कारण फॉर्मोलीन गिरना नहीं
--Advertisement--

एमडीएमएच के पीआईसीयू में केमिकल की बोतल गिरने का मामला जांच में फॉर्मोलीन के रखरखाव में लापरवाही आई सामने, बच्चे की मौत का कारण फॉर्मोलीन गिरना नहीं

अस्पताल अधीक्षक डॉ. आसेरी ने कुछ भी बताने से इनकार किया, आज मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल को सौंपेंगे रिपोर्ट ...

Danik Bhaskar | Aug 04, 2018, 05:15 AM IST
अस्पताल अधीक्षक डॉ. आसेरी ने कुछ भी बताने से इनकार किया, आज मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल को सौंपेंगे रिपोर्ट

हेल्थ रिपोर्टर | जोधपुर

मथुरादास माथुर अस्पताल जनाना विंग के पीडियाट्रिक आईसीयू में फॉर्मोलीन केमिकल गिरने के मामले की जांच रिपोर्ट चार सदस्यीय कमेटी ने शुक्रवार शाम पांच बजे अस्पताल अधीक्षक डॉ. एमके आसेरी को सौंपी। इसमें लापरवाही आैर मौत के कारणों की जानकारी दी गई है। हालांकि अस्पताल अधीक्षक डॉ. एमके आसेरी ने रिपोर्ट पर कुछ भी कहने से मना कर दिया है।

उन्होंने कहा, जांच कमेटी ने रिपोर्ट शनिवार को सुबह 10 बजे मेडिकल काॅलेज प्रिंसिपल के पास भेज दी जाएगी। रिपोर्ट पर अधिकारिक बयान वो ही देंगे। शुक्रवार को रिपोर्ट उन्हें देरी से मिली, इसलिए मेडिकल कॉलेज नहीं भेज सके।

जानकारी के अनुसार फॉर्मोलीन स्टोर से वार्ड में कैसे और कहां से आई? ऐसे कई सवालों के जवाब कमेटी को नहीं मिले हैं, जबकि इसका पूरा रिकॉर्ड मेंटेन किया जाता है। कमेटी को जांच में रिकॉर्ड भी नहीं मिला। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में साफ लिखा है, कि यह फॉर्मोलीन कहां से आया? उसका स्पष्ट जवाब किसी ने नहीं दिया है।

रखरखाव में लापरवाही बरती गई है, जबकि एक नर्सिंग स्टाफ ने अपने बयान में लिखा है, कि वह ओटी से फॉर्मोलीन लेकर आया, लेकिन वार्ड में कैसे आई नहीं पता। इससे लापरवाही और ड्यूटी के प्रति असजगता साफ तौर पर जाहिर होती है। रिपोर्ट में जांचकर्ताओं ने यह जरूर लिखा है, कि फॉर्मोलीन गिरने की वजह से बच्चे की मौत नहीं हुई। बच्चे को दिमागी बुखार था, जब से भर्ती हुआ तब से हालत गंभीर ही थी। डॉक्टरों की ओर से पूरी कोशिश की जा रही थी।