Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» शारदा ही रहेंगी चोढ़ा की सरपंच 3 साल बाद याचिका खारिज

शारदा ही रहेंगी चोढ़ा की सरपंच 3 साल बाद याचिका खारिज

बिलाड़ा आंचलिक | ग्राम पंचायत चोढ़ा के तीन साल पहले हुए चुनाव में विजयी रहने वाली शारदा चौधरी ही गांव की सरपंच बनी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 04, 2018, 05:16 AM IST

शारदा ही रहेंगी चोढ़ा की सरपंच 3 साल बाद याचिका खारिज
बिलाड़ा आंचलिक | ग्राम पंचायत चोढ़ा के तीन साल पहले हुए चुनाव में विजयी रहने वाली शारदा चौधरी ही गांव की सरपंच बनी रहेगी। चुनाव में पराजित रहने वाली प्रत्याशी ममता चौधरी ने उनके खिलाफ 3 मार्च 2015 को वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश जोधपुर, पीठासीन अधिकारी समरेंद्रसिंह सिकरवार के समक्ष याचिका लगाई थी। जिसमें मतपत्रों की गिनती में रिटर्निंग अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा अनियमितता बरतने के आरोप लगाते हुए चुनाव को गैरकानूनी घोषित करने और प्रार्थिया को घोषित सरपंच शारदा से 5 लाख रुपए हर्जाना दिलाने की मांग की गई थी। इस याचिका को अब खारिज कर दिया गया है। जिससे वर्तमान सरपंच शारदा प|ी राहुल चौधरी अपने पद पर बनी रहेगी। दायर याचिका में सरपंच शारदा की ओर से अधिवक्ता रामाकिशन विश्नोई एवं कपिलराज सियाग द्वारा निर्वाचन अधिकारी जिला कलेक्टर को पक्षकार नहीं बनाना, चुनाव संपन्न कराने वाले रिटर्निंग अधिकारी व राज्य कर्मचारियों द्वारा शारदा का पक्ष लेने एवं गिनती में अनियमितता का अभाव पत्रावली में होने की दी गई दलीलों को आधार मानते हुए वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश जोधपुर ने याचिका को खारिज कर दिया। इससे गांव व कांग्रेस खेमे में खुशी का माहौल है।

शारदा चौधरी

चार उम्मीदवार थे मैदान में, दो ने लिया था नाम वापस:वर्ष 2015 के ग्राम पंचायत चोढ़ा के सरपंच चुनाव में चार उम्मीदवारों ने नामांकन भरा था। उनमें से किरण प|ी श्रवणराम व किरण प|ी मोहनराम ने नामांकन वापस ले लिया था। इसके बाद ममता व शारदा के बीच चुनाव हुआ। जिसमें कुल 3179 मतों में से ममता को 1550 व शारदा को 1581 मत प्राप्त हुए थे। वहीं 48 मत खारिज किए गए। तीन दिन बाद जिला निर्वाचन अधिकारी से पुन: मतगणना कराने की मांग की गई। लेकिन पुन: मतगणना नहीं होने पर 3 मार्च 2015 वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश के समक्ष याचिका प्रस्तुत कर दी गई। जिसे 10 जुलाई को खारिज कर दिया गया।

बिलाड़ा आंचलिक | ग्राम पंचायत चोढ़ा के तीन साल पहले हुए चुनाव में विजयी रहने वाली शारदा चौधरी ही गांव की सरपंच बनी रहेगी। चुनाव में पराजित रहने वाली प्रत्याशी ममता चौधरी ने उनके खिलाफ 3 मार्च 2015 को वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश जोधपुर, पीठासीन अधिकारी समरेंद्रसिंह सिकरवार के समक्ष याचिका लगाई थी। जिसमें मतपत्रों की गिनती में रिटर्निंग अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा अनियमितता बरतने के आरोप लगाते हुए चुनाव को गैरकानूनी घोषित करने और प्रार्थिया को घोषित सरपंच शारदा से 5 लाख रुपए हर्जाना दिलाने की मांग की गई थी। इस याचिका को अब खारिज कर दिया गया है। जिससे वर्तमान सरपंच शारदा प|ी राहुल चौधरी अपने पद पर बनी रहेगी। दायर याचिका में सरपंच शारदा की ओर से अधिवक्ता रामाकिशन विश्नोई एवं कपिलराज सियाग द्वारा निर्वाचन अधिकारी जिला कलेक्टर को पक्षकार नहीं बनाना, चुनाव संपन्न कराने वाले रिटर्निंग अधिकारी व राज्य कर्मचारियों द्वारा शारदा का पक्ष लेने एवं गिनती में अनियमितता का अभाव पत्रावली में होने की दी गई दलीलों को आधार मानते हुए वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश जोधपुर ने याचिका को खारिज कर दिया। इससे गांव व कांग्रेस खेमे में खुशी का माहौल है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×