Hindi News »Rajasthan »Jodhpur »News» स्कूल में एक ट्री के स्ट्रक्चर से दिया जा रहा यूनिटी का मैसेज

स्कूल में एक ट्री के स्ट्रक्चर से दिया जा रहा यूनिटी का मैसेज

सेंट पैट्रिक्स स्कूल ने स्टूडेंट्स सहित यहां आने वाले विजिटर्स को यूनिटी का मैसेज देने के लिए अनोखी पहल की है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 07, 2018, 05:21 AM IST

  • स्कूल में एक ट्री के स्ट्रक्चर से दिया जा रहा यूनिटी का मैसेज
    +2और स्लाइड देखें
    सेंट पैट्रिक्स स्कूल ने स्टूडेंट्स सहित यहां आने वाले विजिटर्स को यूनिटी का मैसेज देने के लिए अनोखी पहल की है। स्कूल के गलियारों में जब आप एंटर होंगे तो सबसे पहली चीज जो आपका ध्यान आकर्षित करेगी वह है गहरे चॉकलेटी रंग का एक ट्री जिससे तीन ब्रांचेज निकल रही हैं। इसकी एक ब्रांच पर है गीता, दूसरी पर बाइबिल और तीसरी पर कुरान...तीनों बराबर में। इस ट्री को लगवाने का आइडिया स्कूल की प्रिंसीपल सिस्टर गेल का है। वे कहती हैं कि ट्री की ब्रांचेज अलग-अलग हैं मगर रूट्स एक ही हैं, ठीक उसी तरह हम अलग-अलग रिलीजन को फॉलो जरूर करते हैं मगर हमारी जड़ें उसी एक शक्ति से जुड़ी हैं। यही मैसेज स्टूडेंट्स और यहां आने वाले गेस्ट्स को जाए, इसलिए हमने ट्री को मेन गेट के सामने लगवाया है। कई स्टूडेंट्स और यहां तक गेस्ट्स भी यहां रूक कर तीनों में से किसी बुक को पढ़ लेते हैं। उन्होंने बताया कि इसे बनाने वाले कारपेंटर शौकत अली ने भी इसके लिए काेई पेमेंट भी नहीं लिया।

    मिशनरी स्कूल एसपीएस की अनूठी पहल, ताकि स्टूडेंट्स सभी रिलीजन का करें सम्मान

    इन किताबों के जरिए अलग- अलग रिलीजन की स्टूडेंट्स पढ़ रही प्रेम और शांति का पाठ

    ट्री पर रखीं तीनों बुक्स देखकर सबसे पहली बात यही क्लिक की कि सभी रिलीजन एक समान हैं। कुरान और बाइबिल में भी वही मैसेज हैं जो गीता में है। सभी रिलीजन यूनिटी और एक-दूसरे का रिस्पेक्ट सिखाते हैं। चाहे हम मंदिर, मस्जिद या चर्च में प्रार्थना कर रहे हों लेकिन वो पहुंचती उस एक ही शक्ति के पास है।

    आकांक्षा स्टूडेंट, क्लास 10

    मैंने कुरान को अरेबिक, उर्दू और इंग्लिश तीनों में पढ़ा है। मोहम्मद साहब के उपदेश मुझे सही राह दिखाते हैं। मैंने स्कूल में गीता और बाइबिल को भी पढ़ा है और इन दोनों में भी इंसानियत, दया और कर्म की बात कही गई है। यानी सभी रिलीजन की सिर्फ परंपराएं अलग हैं मगर समाज के लिए इंसानियत का संदेश एक ही है।

    मलाइका खान , हैड गर्ल

    इंस्टॉलेशन के बाद मैंने जब इस ट्री को देखा बहुत अच्छा लगा। गीता और कुरान मैं पहली बार देख रही थी और जब इनकी कुछ बातें पढ़ी तो लगा कि धर्म हमें बांटना नहीं बल्कि एकता और भाईचारे से रहना सिखाते हैं। ट्री की ब्रांचेज अलग हैं लेकिन इन सभी काे मजबूती एक ही रूट से मिल रही है। इसी तरह हमारे रिलीजन अलग हैं लेकिन इनको मजबूती इंसानियत, शांति और प्रेम से मिलती है।

    एंजल जॉर्ज स्टूडेंट

  • स्कूल में एक ट्री के स्ट्रक्चर से दिया जा रहा यूनिटी का मैसेज
    +2और स्लाइड देखें
  • स्कूल में एक ट्री के स्ट्रक्चर से दिया जा रहा यूनिटी का मैसेज
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×