• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • धन खर्च करने से सबकुछ मिल सकता है, लेकिन माता-पिता नहीं : संत रामप्रसाद
--Advertisement--

धन खर्च करने से सबकुछ मिल सकता है, लेकिन माता-पिता नहीं : संत रामप्रसाद

भक्ति रस महोत्सव में संत रामप्रसाद महाराज ने माता-पिता की सेवा को ही सर्वश्रेष्ठ बताया। गांधी मैदान में भक्ति...

Danik Bhaskar | Aug 11, 2018, 05:25 AM IST
भक्ति रस महोत्सव में संत रामप्रसाद महाराज ने माता-पिता की सेवा को ही सर्वश्रेष्ठ बताया।

गांधी मैदान में भक्ति रस महोत्सव जारी, श्रद्धालु कथा श्रवण का उठा रहे लाभ

जोधपुर| महंत रामप्रसाद महाराज ने कहा, कि माता-पिता की सेवा ही मनुष्य के लिए सबसे बड़ा धर्म है। धन खर्च करने से सब कुछ मिल सकता है, लेकिन जन्मदाता माता-पिता नहीं मिल सकते। वे शुक्रवार को गांधी मैदान में चल रहे भक्तिरस महोत्सव के तहत नरसीजी रो मायरो कथा प्रसंग सुना रहे थे।

गोवत्स राधाकृष्ण ने मीरा चरित्र को लेकर कहा कि भगवान के साथ भक्तों का अपनापन हो जाए, इसलिए भगवान को याद रखें। चित में सदैव भगवान का प्रसाद रहे यानी जो भी वस्तु आप ग्रहण करते हैं। वह भगवान का प्रसाद मानकर ग्रहण करनी चाहिए। वो वस्तु आपको सकारात्मक प्रतिफल प्रदान करेगी। शनिवार को बाल गाेपाल महोत्सव होगा। वहीं जगन्नाथ प्रभु जगन्नाथपुरी ट्रेन से विजय यात्रा शुरू करेंगे। इसके तहत भक्तगण रेलवे स्टेशन तक भगवान जगन्नाथ को विदा करने जाएंगे।