• Home
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • ओल्ड कैंपस में कौटिल्य कौशल विकास, नीति व योग केंद्र का शिलान्यास
--Advertisement--

ओल्ड कैंपस में कौटिल्य कौशल विकास, नीति व योग केंद्र का शिलान्यास

2 करोड़ 98 लाख से बनेगा, कई सुविधाएं विकसित की जाएंगी जाेधपुर | जेएनवीयू के ओल्ड कैंपस में बुधवार काे कौटिल्य कौशल...

Danik Bhaskar | Aug 02, 2018, 05:35 AM IST
2 करोड़ 98 लाख से बनेगा, कई सुविधाएं विकसित की जाएंगी

जाेधपुर | जेएनवीयू के ओल्ड कैंपस में बुधवार काे कौटिल्य कौशल विकास, नीति व योग केंद्र का शिलान्यास किया गया। जेडीए अध्यक्ष प्रो. महेंद्रसिंह राठाैड़ ने एक सादे समाराेह में 2 कराेड़ 98 लाख रुपए से बनने वाले इस केंद्र का शिलान्यास किया। जेडीए आयुक्त दुर्गेश कुमार बिस्सा ने बताया, कि जी प्लस वन के इस केंद्र के भूतल पर कॉन्फ्रेंस हॉल मय स्टेज एवं ग्रीन रूम, दो मीटिंग हॉल, फैकल्टी रूम सहित अन्य सुविधाएं विकसित की जाएंगी। योग केंद्र व लॉन एरिया के साथ-साथ भवन के चारों ओर हरित क्षेत्र विकसित किया जाएगा। कौशल केंद्र के फस्ट फ्लाेर पर दो मीटिंग हॉल, फैकल्टी रूम, कॉन्फ्रेंस हॉल व मीटिंग रूम हाेंगे जाे वातानुकूलित हाेंगे। इस माैके पर प्रो. राठाैड़ ने रूसा की आेर से प्रायोजित वाणिज्य संकाय में पुस्तकालय के नवीन कक्ष का लोकार्पण किया।

काॅन्फ्रेंस हाॅल का नामकरण प्राे. शारदा शरणसिंह सभागृह करने की घोषणा

समाराेह के दाैरान कौटिल्य कौशल विकास, नीति व योग केंद्र में बनने वाले कॉन्फ्रेंस हॉल का नामकरण शिक्षाविद व स्वयंसेवक रहे प्रो. शारदा शरणसिंह के नाम पर करने की घोषणा की गई। प्रो. सिंह जोधपुर विश्वविद्यालय में प्रोफेसर, माइनिंग में हैड ऑफ डिपार्टमेंट, कई विश्वविद्यालयों में डीन एवं आरएसएस के कई प्रमुख पदों पर रहे। केंद्र में दो मीटिंग हॉल भी बनाए जाएंगे, एक मीटिंग हॉल का नाम प्रो. जेके व्यास हॉल तथा दूसरे मीटिंग हॉल का नाम पूर्व कुलपति जेएनवीयू प्रो. डीएन एलान्स हॉल रखा गया है। कार्यक्रम के दौरान प्रो. जसराज बोहरा ने जेडीए अध्यक्ष प्रो. राठौड़ को स्मृति चिह्न भी भेंट किया।

कार्यक्रम में ये माैजूद रहे | शिलान्यास कार्यक्रम में जेएनवीयू कुलपति प्रो. डॉ. राधेश्याम शर्मा, प्रो. सुशील जे. ललवानी, महापौर घनश्याम ओझा , शहर विधायक कैलाश भंसाली व सूर्यकांता व्यास, भाजपा जिलाध्यक्ष देवेंद्र जोशी, जेडीए सचिव अरुण कुमार पुरोहित, प्रो. जसराज बोहरा, प्रो. रमन कुमार दवे, प्राे. राजन हांडा, प्राे. शिशुपाल सिंह भादू मौजूद रहे। मंच का संचालन डॉ. सपना पटावरी व डॉ. क्षितिज महर्षि ने किया।