• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • रेलवे ने रिटायरमेंट के बाद 1948 ‘अपनों’ को फिर से नाैकरी के लिए बुलाया, 206 ही पहुंचे, 68 के आवेदन हुए खारिज
--Advertisement--

रेलवे ने रिटायरमेंट के बाद 1948 ‘अपनों’ को फिर से नाैकरी के लिए बुलाया, 206 ही पहुंचे, 68 के आवेदन हुए खारिज

ट्रेनों के सुचारु संचालन और व्यवस्थाएं बनाए रखने में पदों के रिक्त होने से आ रही दिक्कतों के मद्देनजर रेलवे ने...

Dainik Bhaskar

Aug 02, 2018, 05:36 AM IST
ट्रेनों के सुचारु संचालन और व्यवस्थाएं बनाए रखने में पदों के रिक्त होने से आ रही दिक्कतों के मद्देनजर रेलवे ने जोधपुर मंडल में 1948 पदों के लिए सेवानिवृत्त रेलवे कर्मचारियों को बुलाया, लेकिन फिर से नौकरी करने के लिए 206 लोग ही पहुंचे। इनमें से 68 के आवेदन अलग-अलग कारणों से खारिज कर दिए गए। कुल मिलाकर 111 कर्मचारी ही अब तक रेलवे की इस योजना से जुड़ पाए हैं। मंडल में सबसे ज्यादा जरूरत इंजीनियरिंग विभाग को है। यहां 1217 लोगों की जरूरत थी लेकिन पुनर्नियुक्ति के लिए 13 कर्मचारी ही मिले।

दरअसल, गत दिसंबर में मंडल रेल प्रबंधक की ओर से जारी निर्देश के तहत जोधपुर मंडल में लोको पायलट, सहायक लोको पायलट, तकनीशियन, ट्रैक मेंटेनर, सेक्शन इंजीनियर्स, स्टेशन मास्टर, पॉइंट्समैन, टीटीई, बुकिंग क्लर्क, नर्स, हेल्थ इंस्पेक्टर, मंत्रालयिक कर्मचारी आदि पदों के लिए सेवानिवृत्त कर्मचारियों से गत 5 जनवरी तक पुनर्नियुक्ति के लिए आवेदन मांगे गए थे। इन्हें अंतिम वेतन और पेंशन के अंतर की राशि का भुगतान किया जाना है। रेलवे बोर्ड की सेवानिवृत्त कर्मचारियों को फिर से नौकरी पर रखने के लिए बनाई पॉलिसी के तहत यह कवायद शुरू हुई थी। अभी तक सर्वाधिक पुनर्नियुक्ति पर कर्मचारी ट्रेनों के संचालन वाले ऑपरेटिंग विभाग को मिले हैं। इस विभाग में 212 पद पर 37 आवेदन आए थे और 23 सेवानिवृत्त कर्मचारियों को पुनर्नियुक्ति दे दी गई। इलेक्ट्रीकल में 33 में 22, मैकेनिकल सीएंडडब्ल्यू में 11 में से 11, मेडिकल में 6 में से 5 तथा संकेत व दूरसंचार विभाग के लिए आए 9 आवेदकों में से 9 को फिर से नौकरी पर रख लिया गया।

अंतिम वेतन और पेंशन के अंतर की राशि मिलेगी, सर्वाधिक संचालन विभाग को मिले

वाणिज्यिक विभाग के लोग कर रहे इंतजार

पुनर्नियुक्ति की इस प्रक्रिया में वाणिज्यिक विभाग के 67 पदों के लिए भी आवेदन मांगे गए थे। आवेदन 27 ही आए। ट्रेनों में टीटीई की कमी के चलते एक-एक टीटीई को टिकट चैकिंग के लिए ज्यादा कोच देखने पड़ रहे हैं। इसको लेकर कर्मचारी विरोध भी दर्ज करवा रहे हैं। कई सेवानिवृत्त टीटीई ने पुनर्नियुक्ति के लिए आवेदन किया लेकिन उनके आवेदनों को अटका दिया गया है। पता चला है कि वाणिज्यिक विभाग के लिए एक भी व्यक्ति के आवेदन को स्वीकार नहीं किया गया है। रेलवे प्रवक्ता गोपाल शर्मा का कहना है कि इस विभाग के आवेदनों की प्रक्रिया अभी विचाराधीन है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..