राजस्थान / सुअरों को मारने ज्वार में जहर मिलाया, पानी पीने आई गाय-भैंसों ने खाया, 2 दर्जन से ज्यादा पशु मरे



More than 2 dozen animals die from poisonous
पुलिस के बाद शाम को बिलाड़ा एसडीएम ने भी घटनास्थल का दौरा कर जायजा लिया। पुलिस के बाद शाम को बिलाड़ा एसडीएम ने भी घटनास्थल का दौरा कर जायजा लिया।
X
More than 2 dozen animals die from poisonous
पुलिस के बाद शाम को बिलाड़ा एसडीएम ने भी घटनास्थल का दौरा कर जायजा लिया।पुलिस के बाद शाम को बिलाड़ा एसडीएम ने भी घटनास्थल का दौरा कर जायजा लिया।

  • जहरीला दाना पानी की खेली के पास रखा था, केस दर्ज, कई पशु बीमार
  • एक ही पशुपालक की 3 भैंसें मरी, जहरीले दाने फेंकने को लेकर आपस में ही उलझे ग्रामीण

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 04:24 AM IST

बिलाड़ा आंचलिक. लांबा गांव के बाहर भावी सड़क पर बनी पशुओं की पानी खेली के पास सुअरों को मारने के लिए रखे जहर के दाने पानी पीने आए जानवरों के खाने से करीब आधा दर्जन पशु व डेढ़ दर्जन सुअरों की मौत हो गई। वहीं आधा दर्जन पशु बीमार है। जिनका उपचार पशुपालकों की ओर से किया जा रहा।

 

जानवरों के मौत की सूचना पर मौके पर आए हैड कांस्टेबल रामकरणसिंह ने बताया कि लांबा निवासी मिथुन सरगरा ने सूचना दी कि लांबा गांव के बाहर बनी खेळी पर मेरे भाई का पशुधन गया। वहां पानी पीने के बाद 4 भैसों व दो नील गायों की मौत हो गई। वहीं एक भैंस की मौत घर पर उपचार के दौरान हो गई। पशु चिकित्सकों की टीम को बुलाकर जानवरों का पोस्टमार्टम करवाकर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। 

 

एक ही पशुपालक की 3 भैंसें मरी :
जहरीला दाना खाने से 5 भैंस, 2 नील गाय व 1 गाय सहित डेढ़ दर्जन सुअरों की मौत हो गई। वहीं, आधा दर्जन घायल हैं। 3 भैंस ओमप्रकाश पुत्र हरिराम सरगरा, 1 भैंस बाबूलाल पुत्र हरिराम व 1 गाय कुनाराम पुत्र लादूराम ईरानी की मौत हो गई। जगह-जगह सुअरों के शव पड़े हैं। जहर का असर इतना खतरनाक हुआ कि हर जानवर की आंखों से खून निकल आया। पशुधन सहायक मादाराम विश्नोई, नोडल अधिकारी नवीन जयसवाल, दिनेश चौधरी, ओमप्रकाश सिरवी, गजेंद्र सिंह सहित पशु चिकित्सकों ने मृत जानवरों का पोस्टमार्टम कर विसरा जांच के लिए नमूने लिए।

 

जेसीबी से दफनाए पशु:

खेली के पास डाली जहरीली ज्वार के दानों को जिस जानवर या पशु ने खाया वह तड़प कर काल ग्रास हो गया। पशुपालक अपने पशुओं को संभालने लगे। कोई जानवर या पशु जहरीला दाना खाकर और न मर जाए इसलिए ग्रामीणों ने जीसीबी से गड्ढे खोद जानवरों को दफना दिए। शाम के वक्त पुलिस के पहुंचने पर लोग एकत्र हुए और एक दूजे पर जहरीला दाना डालने के आरोप लगाकर उलझने लगे। किसी ने यह स्वीकार नहीं किया कि उसने दाना डाला। 
 

COMMENT