जोधपुर / दो विदेशियों को हुआ डेंगू, देर रात प्लेटलेट देने पहुंचे ब्लड डोनर्स

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • दोनों पर्यटकों का शहर के एक निजी अस्पताल में चल रहा इलाज

दैनिक भास्कर

Oct 31, 2019, 10:56 AM IST

जोधपुर. शहर में बढ़ते डेंगू की चपेट में अब सैलानी भी आने लगे हैं। डेंगू से लड़ने में भले ही सरकार और चिकित्सा विभाग तैयार न हो, लेकिन जोधपुर के ब्लड डोनर्स शहर की अपणायत को निभाने में दिन-रात मरीजों को बचाने में लगे हुए हैं। मंगलवार को रेजिडेंसी रोड स्थित एक निजी हॉस्पिटल में दो विदेशी सैलानियों काे डेंगू के कारण भर्ती किया गया है। इसमें एक अमरीकी महिला कैथरीन हूड हैं, जिनका ब्लड ग्रुप ओ-नेगेटिव है तो दूसरा फ्रांस निवासी निकोलस, जिनका ब्लड ग्रुप ओ-पॉजिटिव है। दोनों की प्लेटलेट 12-13 हजार पहुंच गई थी। 


डॉक्टर ने प्लेटलेट चढ़ाने को बोला, लेकिन साथ में कोई नहीं था तो अस्पताल ने रोटरी ब्लड बैंक पर सूचना दी। वहां से जोधपुर ब्लड डोनर्स समूह को फोन किया गया। जहां से तुरंत ही ओ-नेगेटिव ब्लड ग्रुप के धमेंद्र कुमावत और दीपक चौधरी पहुंचे। दूसरी ओर निकोलस को प्लेटलेट देने चेतन प्रकाश पहुंचे।


10 में से 1 डोनर ही दे पाता है प्लेटलेट्स
ब्लड डोनर्स समूह के विशाल डेविस ने बताया कि प्लेटलेट डोनेशन के कुछ विशेष पैरामीटर होते हैं, जिस कारण दस में से एक डोनर ही प्लेटलेट्स डोनेट कर पाता है। ऐसे में गांवों से आने वाले अनजान मरीजों की सहायता के लिए हम लोग तैयार हैं। हमारी कोशिश है कि रक्त अथवा प्लेटलेट्स की कमी से कोई जरूरतमंद परेशान न हो। गौरतलब है कि इस साल डेंगू के एलाइजा पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 647 और कार्ड टेस्ट के पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 35 हजार 291 तक पहुंच गया है।


नागौर की गर्भवती को भी प्लेटलेट्स दिए
विशाल ने बताया कि नागौर निवासी गर्भवती महिला को भी प्लेटलेट्स दिए। उसका ब्लड ग्रुप बी नेगेटिव था और प्लेटलेट का केवल 6 हजार तक पहुंच गया था। परिजन रात डेढ़ बजे डोनर ढूंढ रहे थे। बुधवार सुबह करीब पांच बजे कॉल आया तो तुरंत अंकित विश्नोई प्लेटलेट डोनेट करने पहुंच गए।
 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना