राजस्थान चुनाव / 114 वर्ष की मां 90 वर्षीय बेटी के साथ मतदान करने पहुंची, तो कोई सीधे अस्पताल से पहुंचा मतदान केन्द्र

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 10:50 AM IST



114 वर्षीय दाखा देवी अपनी नब्बे वर्षीय बेटी बिरमी के साथ मतदान केन्द्र के बाहर। 114 वर्षीय दाखा देवी अपनी नब्बे वर्षीय बेटी बिरमी के साथ मतदान केन्द्र के बाहर।
114 वर्षीय दाखा देवी। 114 वर्षीय दाखा देवी।
नब्बे वर्षी बिरमी देवी को मतदान केन्द्र में उठाकर ले जाता उनका पौत्र। नब्बे वर्षी बिरमी देवी को मतदान केन्द्र में उठाकर ले जाता उनका पौत्र।
अस्पताल से सीधे मतदान केन्द्र पहुंचे ये बुजुर्ग। अस्पताल से सीधे मतदान केन्द्र पहुंचे ये बुजुर्ग।
पहली बार वोट डालने की खुशी। पहली बार वोट डालने की खुशी।
X
114 वर्षीय दाखा देवी अपनी नब्बे वर्षीय बेटी बिरमी के साथ मतदान केन्द्र के बाहर।114 वर्षीय दाखा देवी अपनी नब्बे वर्षीय बेटी बिरमी के साथ मतदान केन्द्र के बाहर।
114 वर्षीय दाखा देवी।114 वर्षीय दाखा देवी।
नब्बे वर्षी बिरमी देवी को मतदान केन्द्र में उठाकर ले जाता उनका पौत्र।नब्बे वर्षी बिरमी देवी को मतदान केन्द्र में उठाकर ले जाता उनका पौत्र।
अस्पताल से सीधे मतदान केन्द्र पहुंचे ये बुजुर्ग।अस्पताल से सीधे मतदान केन्द्र पहुंचे ये बुजुर्ग।
पहली बार वोट डालने की खुशी।पहली बार वोट डालने की खुशी।

  • कई युवा बड़े उत्साह के साथ पहली बार कर रहे है मतदान

जोधपुर. राजस्थान विधानसभा चुनाव के मतदान के दौरान बुधवार को यहां के एक मतदान केन्द्र पर 114 साल की एक महिला अपनी 90 साल की बेटी के साथ वोट डालने पहुंचीं। दोनों को इनके परिजन गोद में उठाकर बूथ तक लाए।  पोलिंग बूथ पर युवा मतदाता भी उत्साह के साथ प्रदेश में सरकार चुनने में अपनी भागीदारी निभा रहे हैं। 


जोधपुर के बरकतुल्लाह खान स्टेडियम के मतदान केंद्र पर एक 114 साल महिला दाखा देवी पहुंचीं। चलने फिरने में असमर्थ दाखा देवी को उनके पौत्र गोद में उठाकर मतदान केन्द्र तक लाए। बाद में उन्हें गोद में उठाकर उनसे मतदान कराया गया।

 

दाखा देवी के साथ उनकी 90 साल की बेटी बिरमी देवी को भी मतदान के लिए उनके परिजन गोद में लाए। दाखा देवी के पौत्र ने दावा किया कि उनकी आयु 114 वर्ष है और वे प्रत्येक चुनाव में मतदान करती रही हैं। इस बार भी उन्होंने परिजनों से बूथ तक लेकर चलने का आग्रह किया।

 

इसी मतदान केंद्र पर एक अन्य मतदाता को उनके परिजन सीधे अस्पताल से मतदान कराने के लिए लेकर पहुंचे। परिजनों ने बताया कि वे कई दिन से बीमार चल रहे है और बिस्तर से उठने में असमर्थ है, लेकिन आज सुबह से मतदान करने की जिद करने लगे। ऐसे में उन्हें लेकर मतदान केंद्र तक लाना पड़ा।

 

फोटो- एल देव जांगिड़

COMMENT