--Advertisement--

कोर्ट में किशोरी ने कहा, भगा ले गया था तांत्रिक, अब रहना है माता-पिता के साथ

माउंट आबू में दाढ़ी-मूंछ और बाल कटा कर रहे इस तांत्रिक को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 05:21 PM IST

जोधपुर। बाड़मेर जिले में झाड़-फूंक करने के बहाने डेढ़ माह पूर्व एक किशोरी को भगा कर ले जाने वाले तांत्रिक मोहनराम की मुसीबत बढ़ गई है। माउंट आबू में दाढ़ी-मूंछ और बाल कटा कर रहे इस तांत्रिक को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। किशोरी और बाबा को गुरुवार दोपहर हाईकोर्ट में पेश किया गया। हाईकोर्ट में किशोरी ने अपने माता-पिता के साथ रहने की इच्छा व्यक्त की। यह है मामला…

- बाड़मेर जिले में सेड़वा क्षेत्र के सम्मो की ढाणी में तांत्रिक मोहनराम लोगों को झाड़-फूंक का काम करता था। इस क्षेत्र में रहने वाली एक किशोरी की तबीयत ठीक नहीं रहने पर उसके माता-पिता इलाज के लिए उसे मोहनराम के पास लेकर गए। इसके बाद इलाज के नाम पर मोहनराम किशोरी के घर आने लगा। इस वर्ष 24 मई को वह किशोरी को लेकर गांव से गायब हो गया। किशोरी के माता-पिता की रिपोर्ट पर पुलिस इस तांत्रिक को खोज नहीं पाई। इस पर उन्होंने राजस्थान हाई कोर्ट में बंदी प्रत्यशीकरण याचिक दायर की। न्यायाधीश संगीतराज लोढ़ा ने पुलिस को आदेश दिया कि वे किशोरी को खोज कर न्यायालय में पेश करे। हाईकोर्ट से पड़ी लताड़ के बाद पुलिस ने खोजबीन तेज की।

- पुलिस ने तांत्रिक की कई जगह तलाश की, लेकिन वह कहीं नहीं मिला। कल पुलिस ने तांत्रिक को माउंट आबू में दबोच लिया। उस समय किशोरी उसके साथ में ही थी। इस तांत्रिक ने पुलिस से अपनी पहचान छिपाने के लिए अपनी दाढ़ी मूंछ के साथ ही लम्बे बलों को कटा लिया। इसके बावजूद पुलिस ने उसे किशोरी के आधार पर पहचान लिया। आज दोनों को पुलिस ने हाईकोर्ट में पेश किया।

- न्यायाधीश संगीतराज लोढ़ा के समक्ष किशोरी ने कहा कि यह तांत्रिक उसे जबरन अपने साथ ले गया। इस दौरान वह उसे कई जगह पर लेकर गया। किशोरी ने न्यायालय से कहा कि उसे अपने माता-पिता के साथ रहना है। इस पर कोर्ट ने किशोरी को उसके माता-पिता को सौंपने का आदेश दिया। वहीं तांत्रिक को पुलिस बाड़मेर ले जाकर पूछताछ करेगी।