वैन से घर-घर राशन और जरूरी सामान पहुंचाने की व्यवस्था शुरू

Jodhpur News - इसलिए... कलेक्टर ने सहकारी बाजार से सामग्री वैन रवाना की, पहले दिन 15 वार्ड में 22 वैन भेजी गईं शहर में लॉकडाउन...

Mar 27, 2020, 08:16 AM IST
Jodhpur News - rajasthan news arrangement to deliver ration and essential goods from house to house started
इसलिए...


} कलेक्टर ने सहकारी बाजार से सामग्री वैन रवाना की, पहले दिन 15 वार्ड में 22 वैन भेजी गईं

शहर में लॉकडाउन के दौरान लोगों को राशन सामग्री अाैर जरूरी चीजें उपलब्ध करवाने के लिए प्रशासन ने गुरुवार को वैन से डोर-टु-डोर राशन वितरण शुरू किया। पहले दिन दक्षिण जोन में 15 वार्डों में 22 वैन भेजी गईं। इनमें किराणा सामग्री शामिल है। रेलवे स्टेशन के बाहर सरकारी बाजार से कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने इन डिलीवरी वैन को रवाना किया।

कलेक्टर ने बताया कि डिलीवरी वैन हर घर को कवर करेगी। कॉलोनी में भी हर घर तक पहुंचेगी। इसके लिए आपको धैर्य के साथ प्रतीक्षा करनी होगी। ये वैन दो-तीन दिन में ही पूरी कॉॅलोनी के एक-एक घर को कवर कर लेंगी। आपकी कॉलोनी में आने वाली वही वैन होगी जो डोर-टु-डोर जाएगी। उपभोक्ताओं को व्यक्तिगत रूप से वैन में वितरक के मोबाइल नंबर नोट करके रखने में सुविधा रहेगी, ताकि उससे संपर्क बना रहेगा। डोर-टु-डोर वैन से उपभोक्ताओं को एक तो सामग्री संग्रहण की आवश्यकता ही नहीं रहेगी और सभी सामग्री उचित मूल्य पर दी जाएंगी, जिससे ‘महंगी वस्तुओं’ की शिकायत भी उपभोक्ता को नहीं रहेगी।

ये वार्ड हुए कवर

पहले दिन करीब 22 गाड़ियां साउथ जोन में भेजी गईं। दोपहर तीन बजे तक ही सभी गाड़ियों का सामान करीब-करीब उपभोक्ताओं के पास डोर-टु-डोर डिलीवर हो गया। साउथ जोन के वार्ड संख्या 32, 33, 30, 31, 28, 7, 9, 15, 16, 17, 14, 44, 43, 19 अाैर 18 में वैन से सामग्री पहुंचाई गई।

उपभोक्ताओं ने सराहना की

घर-घर सप्लाई व्यवस्था के दौरान लोगों ने इस प्रयास की सराहना की। वार्ड 20 बरकतुल्लाह खान स्टेडियम के सामने मसूरिया क्षेत्र में उपभोक्ता गणपतसिंह, राजूराम, पतासी देवी, मीना इसरानी, प्रवीण कुमार ने दालें, नमक व अन्य जरूरी उपभोक्ता सामग्री खरीदी।

अाखिर यह स्थिति क्यों अाई

जोधपुर की अनाज एवं कृषि मंडियों में अधिकांश सामान एमपी, पंजाब, यूपी, छत्तीसगढ़, गुजरात, महाराष्ट्र अाैर बिहार से आता है। इनमें से पंजाब, गुजरात व महाराष्ट्र में कर्फ्यू लगा हुआ है, वहीं एमपी अाैर यूपी के कुछ हिस्सों में लॉकडाउन है। इसके चलते वहां से माल निकल नहीं रहा है और यहां स्टॉक कम होता जा रहा है।

मंडी में स्टॉक कितना

सामग्री स्टाॅक

आटा समाप्त

दालें 2 से 3 दिन

शक्कर 7 दिन

चना, मूंग,

मोठ, जीरा पर्याप्त

घी/तेल 5 दिन

गुड़ 15 दिन

चाय पर्याप्त

यह चेन नहीं टूटनी चाहिए : केंद्र सरकार के स्पष्ट निर्देश हैं कि खाद्य सामग्री का इंटर-स्टेट ट्रांसपोर्टेशन सुनिश्चत होना चाहिए

सिटी रिपोर्टर | जोधपुर

पूरे देश में 21 दिन के लॉकडाउन का अभी दूसरा दिन निकला है अाैर राजस्थान तो पिछले चार दिन से लॉकडाउन है, इसलिए लोगों ने घरेलू सामान की खरीद पहले से कर ली थी, लेकिन अब तीन सप्ताह और निकालने हैं। जनता की सुविधा के लिए आवश्यक वस्तुओं के प्रतिष्ठान खुले रखे गए हैं, जिनमें किराणा की दुकानें भी शामिल हैं, लेकिन किराणा उत्पादों के प्रोडक्शन से जुड़े प्रदेशों में भी पहले से लॉकडाउन की स्थिति होने से मंडी में किराणा का स्टॉक गड़बड़ाने लगा है। जोधपुर की मंडियों में अभी सात दिन का स्टॉक है, जो पूरे संभाग की खपत कर सकता है। सहकारी बाजार ने घर-घर सामान वितरण का इंतजाम शुरू कर दिया है, लेकिन आगे की सप्लाई चेन फिर से नहीं जुड़ी तो दुकानों में सामान नहीं बचेगा। मंडी के व्यापारियों का कहना है कि ट्रांसपोर्ट में माल अटका हुआ है और दुकानदार का कहना है मंडी से सामान नहीं आ रहा है। इस तरह लोगों को गली-मोहल्ले की दुकान पर सामान नहीं मिल रहा। हालांकि पुलिस महानिदेशक ने बुधवार को एक आदेश निकाल कर कहा था कि गुड्स परिवहन के किसी वाहन को नहीं रोका जाएगा, मगर गुरुवार को पुलिस ने कई जगह सामान लाने वाली टैक्सियों को रोक दिया। इस तरह खाने-पीने की वस्तुओं की चेन बीच-बीच में टूटी तो लोगों को भारी दिक्कतें होंगी, इसलिए मुख्यमंत्री ने भी गुरुवार को एक बयान जारी कर कहा है कि मंडियों में अनाज की खरीद-फरोख्त पर कोई रोक नहीं है। सिर्फ न्यूनतम मूल्य पर होने वाली खरीद अाैर पंजीकरण को स्थगित किया गया है। उन्होंने निर्देश दिए कि सोशल डिस्टेंसिंग को सुनिश्चित करने के लिए मंडियों में कृषि जिंसों के खरीद-बेचान को जारी रखें।

जनता भी सहयोग करें


-तरुण जैन,
सहसचिव, कृषि मंडी दलाल संघ

सरकार सप्लाई
की व्यवस्था करें



-प्रेमकिशन दाधीच
सचिव, कृषि मंडी दलाल संघ

प्रशासन से करेंगे अनुरोध


-प्रसन्नचंद मेहता,

अध्यक्ष, मारवाड़ चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री

दुकानदार दुगुने भावों में बेच रहे

शहर में माल जैसे-जैसे कम होता जा रहा है, किराणा सामान के भावों में बढ़ोतरी होती जा रही है। हालांकि मंडी से तो नियमित भावों में माल जा रहा है, लेकिन कुछ रिटेल व्यापारी सामान की दुगुनी कीमत वसूल रहे हैं। हाउसिंग बोर्ड के एक व्यापारी के यहां चना दाल 85 रुपए की आधा किलो बेची जा रही है, जबकि चना दाल के 70 रुपए प्रतिकिलो के ही भाव हैं, वहीं आटे के भाव भी डेढ़ गुणा वसूले जा रहे हैं।

कौनसे अनाज की सप्लाई कहां से

आटा राजस्थान

चाय आसाम

गेहूं एमपी व पंजाब

तेल गुजरात व महाराष्ट्र

घी यूपी, पंजाब व एमपी

शक्कर उत्तरप्रदेश, गुजरात व महाराष्ट्र

दलहन राजस्थान, एमपी, कर्नाटक व महराष्ट्र

चावल हरियाणा, पंजाब, बिहार, छत्तीसगढ़

गुड़ उत्तरप्रदेश व महाराष्ट्र

सहकारी बाजार के बाहर डोर-टु-डोर वितरण के लिए खड़े वाहन।

क्योंकि...

जो भी ट्रक अटके हैं उन्हें लाने, कंपनियों में फंसे माल को निकालने के लिए परमिट जारी किए जाएं

} जिन सात प्रदेशों से सामान आता है, उनमें से तीन जगह कर्फ्यू

} किराणा दुकानों पर दुगुने भाव में बिक रहा है सामान

} शहर में आटे का स्टॉक नहीं, दालों का स्टॉक भी गड़बड़ाया

संभाग की 7 दिन की खपत का स्टॉक है अभी
जोधपुर मंडी में, आगे ट्रांसपोर्टेशन की चेन बनानी जरूरी


मंूग की दाल 100 रुपए

उड़द दाल 100 रुपए

तूअर दाल 85 रुपए

चना दाल 60 रुपए

मसूर दाल 65 रुपए

चावल 40 से 100 रु.

आटा 27 रुपए

गेहूं 25 रुपए

शक्कर 36 से 45 रुपए

गुड़ 30 से 75 रुपए

चाय 200 से 300 रु.

सामग्री के होलसेल रेट (रिटेल में सामान्यतया 3 से 5 रु. प्रकि. ज्यादा हाे सकते हैं, लेकिन ज्यादा वसूला जा रहा है)

Jodhpur News - rajasthan news arrangement to deliver ration and essential goods from house to house started
X
Jodhpur News - rajasthan news arrangement to deliver ration and essential goods from house to house started
Jodhpur News - rajasthan news arrangement to deliver ration and essential goods from house to house started

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना