• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Jodhpur News rajasthan news bar council chairman stopped the secretary from working former chairman said they do not have the right

बार काउंसिल चेयरमैन ने सचिव को काम करने से रोका, पूर्व चेयरमैन बोले- उन्हें इसका अधिकार नहीं

Jodhpur News - बार काउंसिल ऑफ राजस्थान (बीसीआर) के चेयरमैन चिरंजीलाल सैनी ने बीसीआर के सचिव आरपी मलिक को अपने पद के दुरुपयोग व...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:05 AM IST
Jodhpur News - rajasthan news bar council chairman stopped the secretary from working former chairman said they do not have the right
बार काउंसिल ऑफ राजस्थान (बीसीआर) के चेयरमैन चिरंजीलाल सैनी ने बीसीआर के सचिव आरपी मलिक को अपने पद के दुरुपयोग व वित्तीय गड़बड़ी के आरोप में अग्रिम आदेश तक उनको सचिव पद का काम नहीं करने के लिए कहा है। वहीं चेयरमैन ने बार काउंसिल ऑफ राजस्थान के सदस्य जगमालसिंह चौधरी से भी साइनिंग ऑफ चैक का काम वापस ले लिया। उधर, पूर्व चेयरमैन सुशील कुमार शर्मा ने कहा कि यह अधिकार केवल कार्यकारी समिति को है, चेयरमैन को व्यक्तिगत तौर पर नहीं है।

बार काउंसिल ऑफ राजस्थान में शनिवार को चेयरमैन की ओर से दिए गए आदेश से विवाद गहरा गया है। सैनी ने बार काउंसिल ऑफ राजस्थान के सचिव मलिक को मैसेज भेजकर कहा कि उनके खिलाफ वित्तीय गड़बड़ी, पद का दुरुपयोग के संबंध में कुछ गंभीर सूचना व शिकायतें मिली हैं। इस पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। बार काउंसिल सदस्य चौधरी ने कहा कि ऐसा आदेश जारी करने का अधिकार चेयरमैन को नहीं है। उन्हें एग्जीक्यूटिव बॉडी ने चेयरमैन की गैरमौजूदगी में डे टू डे वर्क के लिए अधिकृत किया है। चेयरमैन ऐसा आदेश नहीं दे सकते।

सीधी बात चिरंजीलाल सैनी, चेयरमैन, बीसीआर

Á क्या आपने बार काउंसिल के सचिव मलिक को काम करने से रोका है, एेसी क्या वित्तीय गड़बड़ियां हैं?

Áहां काम करने से मना किया है। वित्तीय गड़बड़ियां बताई नहीं जा सकती, यह तो जांच का विषय है।

Á क्या आपको इस तरह के आदेश जारी करने के अधिकार हैं?

Áहां, चेयरमैन को पॉवर है और ऐसे आदेश जारी कर सकते हैं। बोर्ड द्वारा चेयरमैन को पॉवर डेलीगेट किए गए हैं।

Á मलिक का चार्ज किसे दिया है और क्या सचिव ने काम करना छोड़ दिया?

Áअभी काम छोड़ेंगे। मलिक का चार्ज एकाउंटेंट गौरव व प्रवीण माथुर को दिया है।

Á क्या बार काउंसिल सदस्य जगमालसिंह चौधरी को भी फाइनेंस ऑथोरिटी के काम से मना कर दिया है?

Áहां, बिल्कुल मना कर दिया है।


बार काउंसिल के सचिव की नियुक्ति काउंसिल की कार्यकारी समिति करती है और जनरल हाउस में उसकी मंजूरी लेनी होती है। बार काउंसिल सचिव के सर्विस रूल्स बने हुए हैं। रूल 34 के अनुसार सचिव को अगर कोई वैध कारण है तो उसे कार्यकारी समिति निलंबित कर सकती है या काम करने से रोक सकती है। वर्तमान में चेयरमैन सहित छह सदस्य कार्यकारी समिति में होते हैं। कार्यकारी समिति की बैठक की अध्यक्षता चेयरमैन करता है।

कार्यकारी समिति को ही पॉवर, मैं सबको साथ लेकर चला

बार काउंसिल सचिव को काम करने से रोकने का अधिकार केवल कार्यकारी समिति को ही है। चेयरमैन इस तरह के फैसले नहीं ले सकता है और न ही उसे अधिकार है। सचिव को काम करने से रोकने का अधिकार केवल कार्यकारी समिति को ही है। बड़ा मामला हो तो जनरल हाउस से अप्रूवल हो सकता है। बार काउंसिल सदस्य चौधरी को फाइनेंस के अधिकार भी सर्वसम्मति से दिए गए थे और कार्यकारी समिति ही वापस ले सकती है। मेरे कार्यकाल में सभी 25 सदस्यों को साथ लेकर चला और बड़े-बड़े निर्णय किए। -सुशील कुमार शर्मा, पूर्व चेयरमैन, बार काउंसिल ऑफ राजस्थान

X
Jodhpur News - rajasthan news bar council chairman stopped the secretary from working former chairman said they do not have the right
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना