क्लोजर से कानून व्यवस्था व निगम चुनाव पर असर का अंदेशा: पीएचईडी

Jodhpur News - इंदिरा गांधी नहर में पंजाब सरकार की ओर से प्रस्तावित 70 दिन के क्लोजर की अवधि कम करवाने के लिए पंजाब व राजस्थान...

Dec 04, 2019, 10:21 AM IST
इंदिरा गांधी नहर में पंजाब सरकार की ओर से प्रस्तावित 70 दिन के क्लोजर की अवधि कम करवाने के लिए पंजाब व राजस्थान सरकार के स्तर पर प्रयास शुरू हो गए हैं। पीएचईडी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को स्टेटस रिपोर्ट भेज दी है। इसमें 70 दिन के क्लोजर के दौरान जोधपुर शहर सहित संभाग के 9 शहरों व 2115 गांवों में भीषण पेयजल संकट गहराने की आशंका जताई गई है। साथ ही इस दौरान कानून व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने व जोधपुर में होने वाले नगर निगम चुनाव पर प्रतिकूल असर पड़ने का अंदेशा भी जताया गया है। साथ ही इतना लंबा क्लोजर होने पर 100 करोड़ रुपए के फंड की जरूरत बताई गई है। पीएचईडी के प्रमुख शासन सचिव के स्तर पर इस बारे में सीएम गहलोत को पूरी ब्रीफिंग की गई है। अब सीएम गहलोत पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह के समक्ष यह मुद्दा उठाएंगे।

45 दिन तक सूखी रहेगी नहर, 25 दिन कम आएगा पानी

क्लोजर मार्च के अंतिम सप्ताह से मई के अंत तक रहेगा। पहले 30 दिन तक नहर में पूरी तरह से पानी बंद रहेगा। इसके बाद 2500 क्यूसेक पानी हैड पर छोड़ा जाएगा, जो 15 दिन बाद विभिन्न पेयजल योजनाओं तक उपलब्ध हो पाएगा। यानी 45 दिन तक नहर में पूरी तरह से पानी की आवक बंद रहेगी। शेष 25 दिन तक बहुत ही कम पानी की आवक होगी। इससे जुड़ी राजीव गांधी गांधी लिफ्ट नहर, पोकरण लिफ्ट परियोजना, बाड़मेर लिफ्ट परियोजना व जैसलमेर वितरिकाओं में मांग के अनुरूप पानी नहीं आएगा। इससे जल संकट गहराएगा।

13 दिन गहराएगा जल संकट: कायलाना व तखतसागर में दस दिन का पानी है। शहर में हर पखवाड़े व गांवों में हर हफ्ते होने वाले शटडाउन से पानी बचाया जा रहा है। मार्च तक 15 दिन के पानी का स्टोरेज हो जाएगा। मदासर से लिफ्ट नहर के तंत्र में कोई आकस्मिक व्यवधान आने पर लगने वाले समय का ध्यान रखा गया है। स्टोरेज से 5-8 दिन तक सप्लाई के लिए पानी उपलब्ध रहेगा। 7 दिन तक ही स्टोरेज से सप्लाई संभव है। बीस दिन के पॉन्डिंग के पानी और स्टोरेज के सात दिन तक शहर में आपूर्ति के बाद जोधपुर शहर में शेष 13 दिन तक पेयजल संकट गहराएगा।


-नीरज माथुर, चीफ इंजीनियर, पीएचईडी

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना