कोरोना को हराने के लिए जुटे डॉक्टर-स्वास्थ्यकर्मी, कोई 20 तो कोई 12 से 15 घंटे तक दे रहा सेवाएं

Jodhpur News - 20 मार्च से नहीं गए घर 24 घंटे कर रहे रिपोर्टिंग बाप | 20 मार्च से अपने परिवार से नहीं मिल पाए...

Mar 30, 2020, 08:16 AM IST

20 मार्च से नहीं गए घर 24 घंटे कर रहे रिपोर्टिंग

बाप | 20 मार्च से अपने परिवार से नहीं मिल पाए चिकित्साकर्मीमुश्किल से मिल रहा खाना खाने का समय बाप। चिकित्सा विभाग के यौद्धा कोरोना के सामने डटे हुए हैं। चिकित्सक सहित अन्य कार्मिक 20 मार्च के बाद से अपने परिवार जनों से मिल नहीं पाए हैं। हालात है कि खाना खाने का समय तक उन्हे नहीं मिल पा रहा है, लेकिन उनके हौंसले फिर भी बुलंद हैं। राहत भरी खबर यह भी है कि बाप क्षेत्र में अभी तक कोरोना का संदिग्ध तक नहीं मिला। तहसील पर डॉ. प्रियंका पुरोहित, डॉ. दीपक मीणा, डॉ. नीलम गोयल (आरबीएसके) मेल नर्स द्वितीय ओमप्रकाश खोझा बाहर राज्यों से आए हुए लोगों की स्क्रीनिंग 24 घंटे कर रहे हैं। ब्लॉक कार्यालय में बीपीएम अशोक छीपा तथा कंप्यूटर ऑपरेटर बंशीलाल 24 घंटे रिपोर्टिंग कर रहे हैं। बीसीएमओ डॉ. दाऊलाल चौहान ने बताया कि 20 मार्च से कोई भी अपने परिवार से नहीं मिला। ब्लॉक मे 11 रेपिड रेस्पॉन्स टीम है। जिसमे एक डॉ. और 1 नर्सिंग स्टाफ है। हर ग्राम पंचायत पर स्क्रीनिंग के लिए एएनएम है।


पीपाड़ शहर: रोज 30 किमी क्षेत्रमें घूम रही टीम, धर्मशाला में रह रहे

बालेसर: 24 घंटे लगी 6 टीमें, अब तक 2140 जनों की जांच


मथानिया के डॉ. मनीषगोयल जोधपुर में कोरोना वार्ड में दे रहे ड्यूटी

मथानिया | कस्बे के जालवाला बास निवासी डॉ मनीष गोयल एक योद्धा की तरह कोरोना से लड़ाई में जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में डटे हुए हैं। वे उस वार्ड में हैं जहां कोरोना के पॉजिटिव व संदिग्ध मरीज भर्ती है। डॉ मनीष ने भास्कर सेको बताया कि मरीजों के आइसोलेशन वार्ड में हैं जहां पीपीई किट पहनने के बाद ड्यूटी के दौरान ना खाना होता है और ना पीना। वे 23 मार्च से यहां हैं। सुबह की शिफ्ट 8 से 3 बजे तक रहती है। वे तब सेघर नहीं आए हैं। परिजनों से फोन पर ही बात होती है। डॉ मनीष ने बताया कि वार्ड में भर्ती 6 मरीजों में से 2 ठीक हो चुके हैं।


पीपाड़ शहर | पीपाड़ राजकीय चिकित्सालय प्रभारी डॉ एसएस परिहार, डॉ
राजेन्द्र दाधीच व गौतम टाक हर रोज 30 किलोमीटर का एरिया में 300 से
400 लोगों की स्क्रीनिंग कर रहे हैं। डॉ परिहार पिछले 15 दिनों से घर वालों से नहीं मिले। वहीं डॉ दाधीच धर्मशाला में रहकर अपने कार्य को अंजाम दे रहे हैं। पहले अस्पताल परिसर में मरीजों को चेक करते थे। अब गांव गांव जाकर मरीजों की जांच कर रहे हैं।

बालेसर | ब्लाॅक में 6 टीमें 24*7 घंटे कार्य कर रहे हैं। इन टीमों ने औसतन रोजाना 300 मरीजों के हिसाब से अब तक लगभग 2140 मरीजों की रविवार तक जांच की है। ब्लाॅक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. प्रतापसिंह राठौड़ ने बताया कि 23 मार्च से 2140 मरीजों की जांच की है। डाॅ.अरशद खान,डाॅ. राजेन्द्र गर्ग,डाॅ. तमन्ना चौधरी,डाॅ. राहुल चौपड़ा, डाॅ. सतीश,डाॅ. दिनेश बिस्सा,डाॅ. श्याम विश्नोई ,लेब टेक्निशियन श्यामसिंह,जीएनएम प्रेमसिंह,जितेन्द्र सोनी,रामप्रसाद, प्रकाश घर-घर पहुंच रहे हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना