• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Jodhpur News rajasthan news going to the house of martyrs of umesh pulwama of maharashtra collecting the courtyard and funeral pyre they will make a map of india

महाराष्ट्र के उमेश पुलवामा शहीदों के घर जाकर उनके आंगन और अंतिम संस्कार की मिट्‌टी इकट्‌ठी कर रहे, बनाएंगे भारत का नक्शा

Jodhpur News - तेरी मिट्‌टी में मिल जावां...गुल बनके मैं खिल जावां.. ये गाना हरेक भारतीय के जहन में जवानों की शहादत को ताजा कर देता...

Nov 22, 2019, 09:02 AM IST
Jodhpur News - rajasthan news going to the house of martyrs of umesh pulwama of maharashtra collecting the courtyard and funeral pyre they will make a map of india
तेरी मिट्‌टी में मिल जावां...गुल बनके मैं खिल जावां.. ये गाना हरेक भारतीय के जहन में जवानों की शहादत को ताजा कर देता है। इन यादों को जहन में बसाए रखने के लिए अब शहीदों के आंगन और अंतिम संस्कार की जगह की मिट्‌टी से पुलवामा में भारत का नक्शा बनाया जाएगा और इस नक्शे में एक बार फिर खिल उठेंगे हमारे ये जवान। शहादत को इस अनोखे अंदाज में सलाम करने के लिए महाराष्ट्र के औरंगाबाद के उमेश गोपीनाथ जाधव बारह राज्यों में चौदह हजार किलोमीटर का सफर तय कर चुके हैं। वे पुलवामा में शहीद हुए सभी चालीस जवानों के घर जाकर उनके परिवारों से मिल रहे हैं और वहां की मिट्‌टी ले रहे हैं। गुरूवार को वे जोधपुर पहुंचे जहां से जैसलमेर, राजसमंद और कोटा के शहीदों के घर जाएंगे। चालीस वर्षीय जाधव बताते हैं- पुलवामा हमले के दिन मैं जयपुर एअरपोर्ट पर फ्लाइट का इंतजार कर रहा था कि तभी हमले की न्यूज़ आई और चालीस जवानों की शहादत ने मुझे अंदर तक झकझाेर दिया। मैं तीन दिन तक सो नहीं सका। सोचता रहा कि अगर मेरा खुद का भाई सीमा पर होता और मेरे पास उनकी शहादत की खबर आती तो मैं क्या करता। जाधव म्यूजिशियन हैं और कई सालों से बैंगलुरू रह रहे हैं।

उमेश अपना ये सफर एक छोटी सी कार से तय कर रहे हैं। कार के पीछे भी इन्होंने एक दूसरी कार लगा रखी है जिसमें शहीदों के घर की मिट्‌टी, तस्वीरें और उनसे जुड़ा कुछ सामान है। साथ ही इसमें एक बाइक और साइकिल भी है, जहां कार नहीं जा सकती वहां वे इनसे ही जाते हैं। उमेश ने बताया कि जब सफर पर निकले तो शुरू में पैसों की कमी लगती थी लेकिन क्राउड फंडिंग से उन्हें मदद मिल रही है।

उन्होंने बताया ये पूरा सफर इमोशंस से भरा है। बतौर उमेश "मैं शहीद सी. सिवाचंद्रन के परिवार से मिलने तमिलनाडु गया। जिस पिता ने अपने बेटे का तिरंगे में लिपटा शरीर देखा था वे अपने घर के आखिरी चिराग अपने पोते को भी सेना में भेजना चाहते हैं। बेटे की शहादत ने उनमें देशभक्ति के जज्बे को और बढ़ा दिया है।' उमेश ने बताया कि सफर के दौरान कभी वे बिस्किट खाकर ही सोए तो कभी घंटों तक बाढ़ में फंसे रहे लेकिन हिम्मत नहीं हारी।

गुरुवार को जब वे जोधपुर पहुंचे तो यहां के राॅयल राइडर्स क्लब के सरूप राॅय और क्लब के अन्य मेंबर्स भी उन्हें सपोर्ट करने पहुंचे। उल्लेखनीय है कि राॅयल राइडर्स क्लब के मेंबर्स ने भी बाइक से सफर तय कर राजस्थान के सभी शहीदों के घर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी थी।

उमेश की मदद के लिए लोग भी उत्साह से आ रहे आगे

Jodhpur News - rajasthan news going to the house of martyrs of umesh pulwama of maharashtra collecting the courtyard and funeral pyre they will make a map of india
X
Jodhpur News - rajasthan news going to the house of martyrs of umesh pulwama of maharashtra collecting the courtyard and funeral pyre they will make a map of india
Jodhpur News - rajasthan news going to the house of martyrs of umesh pulwama of maharashtra collecting the courtyard and funeral pyre they will make a map of india
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना