• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Jodhpur News rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money

मास्टरमाइंड ने दूसरे ड्राइवर को भी लोन का झांसा देकर खोली थी डमी फर्में, बैंक में भी फर्जीवाड़े से खाता खोला

Jodhpur News - किसी अन्य फर्म के जीएसटी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट को एडिट करके बैंक में दिया, बैंक अधिकारियों ने भी आंखें मूंद खोल...

Jan 16, 2020, 09:00 AM IST
Jodhpur News - rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money
किसी अन्य फर्म के जीएसटी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट को एडिट करके बैंक में दिया, बैंक अधिकारियों ने भी आंखें मूंद खोल दिए खाते

सिटी रिपोर्टर | जोधपुर

रातोरात अमीर बनने के जुनून में शंकर नगर निवासी सीए गौरव माहेश्वरी ने ऐसे-ऐसे कारनामे कर डाले, जिन्हें देखकर स्टेट जीएसटी और पुलिस अधिकारी भी हैरान है। जीएसटी फ्रॉड गैंग के मास्टरमाइंड गौरव माहेश्वरी का ऐसा ही एक कारनामा हाल ही में स्टेट जीएसटी अधिकारियों के सामने आया। इसमें पता चला कि रवि परिहार के बाद गौरव के पास ड्राइवर की नौकरी करने वाले महेंद्र कुमार सैन को भी लोन दिलाने का झांसा देकर शातिर उसके नाम से डमी फर्में और बैंक खाते खुलवा दिए। लोन से पहले उसकी फाइल को मजबूत करने के झांसे में आया महेंद्र भी गौरव के इशारे पर नाचता रहा, लेकिन गाैरव के जेल जाने के बाद वो भी स्टेट जीएसटी अधिकारियों के पास पहुंचा। विभागीय सूत्रों के अनुसार महेंद्र सैन ने करीब दो-तीन महीने तक ही गौरव के पास नौकरी की थी। इसी दौरान सैन ने लोन लेने की इच्छा जताई तो सीए गौरव ने इक्विटास बैंक में उसके नाम से खाता खुलवाया और प्रेम एंड कंपनी नाम से नई फर्म बनाकर उसका जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी कराया। शातिर ने इस फर्म में तो ट्रांजेक्शन नहीं किए, लेकिन इसी जीएसटी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट में काट-छांट करके एक अन्य फर्म महादेव ट्रेडिंग का बताते हुए बैंक में दिया। बैंक अधिकारियों ने भी जीएसटीएन पोर्टल पर सार्वजनिक रूप से उपलब्ध होने वाली वेरिफिकेशन की प्रक्रिया किए बिना ही खाते भी खोल दिए। इतना ही नहीं, मास्टर माइंड शातिर ने महेंद्र को अपनी बातों में फंसाकर एयू बैंक में भी एक खाता खुलवाया, लेकिन इसमें ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर वो ही थे, जो इस गिरोह द्वारा बनाई गई कई अन्य फर्मों के रजिस्ट्रेशन कराते समय उपयोग किया था। एयू बैंक में रॉय ट्रेडर्स नाम से खोले गए खाते में बदमाशों ने जाली जीएसटी रजिस्ट्रेशन नंबर वाला सर्टिफिकेट लगाया था। इस खाते में 94.20 लाख के ट्रांजेक्शन किए गए थे और इसके लिए कई चेक पर तो महेंद्र से साइन कराए गए थे।

ड्राइवर महेंद्र के नाम की सिम का उपयोग भी खुद गौरव करता था उसके जेल जाने के बाद वह स्टेट जीएसटी अधिकारियों के पास पहंुचा

चौहाबो दूसरा पुलिया स्थित किसी और दुकान का फोटो लगा कर दिया वेरिफिकेशन

शातिर सीए गौरव की बैंक में किस हद तक मिलीभगत थी, इसका अंदाजा इसी बात से लगता है कि महादेव ट्रेडिंग की फर्म का खाता खोलने के लिए वेरिफिकेशन की प्रक्रिया में भी तथ्यों में हेरफेर की गई थी। मिलीभगत के चलते ही बैंक के एक अधिकारी ने चौहाबो दूसरा पुलिया स्थित एक अन्य महादेव ट्रेडिंग कंपनी के बंद शटर वाली फोटो खींच ली, जबकि दूसरी एक फोटो, जो इस दुकान की बजाय किसी अन्य जगह की थी, उसमें महेंद्र को बैठा हुआ दिखाया गया था। बैंक के अधिकारी ने इसे वेरिफाई भी किया। यह सब कुछ पता चला स्टेट जीएसटी टीम द्वारा बैंक से मांगे गए दस्तावेजों से। इक्विटास बैंक खाते में 1.85 करोड़ के ट्रांजेक्शन किए गए थे। इसके लिए प्रयुक्त चेक पर किए गए साइन फर्जी होने की आशंका जताई जा रही है।

Jodhpur News - rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money
Jodhpur News - rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money
X
Jodhpur News - rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money
Jodhpur News - rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money
Jodhpur News - rajasthan news mastermind also opened dummy firms by pretending to loan to another driver also opened an account in bank with fake money
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना