आठ सप्ताह में प्रतिवेदन कंसीडर कर नियुक्ति देने के आदेश

Jodhpur News - ई-मित्र कर्मी की गलती से महिला को परित्यक्ता वर्ग में नियुक्ति देने से इनकार नहीं कर सकते: हाईकोर्ट जोधपुर|...

Feb 15, 2020, 09:26 AM IST

ई-मित्र कर्मी की गलती से महिला को परित्यक्ता वर्ग में नियुक्ति देने से इनकार नहीं कर सकते: हाईकोर्ट

जोधपुर| राजस्थान हाईकोर्ट ने कहा कि ई-मित्र कर्मचारी की गलती की वजह से याचिकाकर्ता महिला को परित्यक्ता वर्ग में नियुक्ति देने से इनकार नहीं किया जा सकता है। कोर्ट ने आयुर्वेद विभाग में कंपाउंडर नर्स जूनियर ग्रेड भर्ती के मामले में एसटी केटेगरी में परित्यक्ता वर्ग में दो महीने में नियुक्ति देने के आदेश दिए हैं।

याचिकाकर्ता समोक कुमारी मीणा की ओर से अधिवक्ता यशपाल खिलेरी ने याचिका दायर कर कोर्ट को बताया कि आयुर्वेद विभाग द्वारा नर्स कंपाउंडर के 400 पदों के लिए आवेदन मांगे थे। याचिकाकर्ता ने भी आवेदन किया, लेकिन ई-मित्र द्वारा भरे गए ऑनलाइन आवेदन में याचिकाकर्ता के परित्यक्ता होने के सबूत के रूप में निर्णय व डिक्री को अपलोड तो कर दिया, लेकिन विवाहित स्टेट्स में तलाकशुदा दर्ज नहीं किया। दस्तावेज सत्यापन के दौरान परित्यक्ता केटेगरी में उसे कंसीडर नहीं करने का पता चलने पर विभाग के समक्ष प्रतिवेदन पेश किया। अधिवक्ता ने कहा कि याचिकाकर्ता परित्यक्ता महिला है और विभाग द्वारा जारी वरीयता सूची के कट ऑफ से अधिक अंक हासिल किए हैं। दोनों पक्ष सुनने के बाद जस्टिस दिनेश मेहता ने याचिका स्वीकार करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने परित्यक्ता महिलाओं को आर्थिक सहायता देने और विश्वास व प्रतिष्ठा हासिल करने के उद्देश्य से आरक्षण दिया है।

नागौर सांसद बेनीवाल को किसानों ने बताई समस्याएं

तनावड़ा| नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल तनावड़ा में बाबूलाल गुगरवाल के यहां निजी कार्यक्रम में पहुंचे। किसानों ने उन्हें टिड्‌डी से हुए नुकसान के बारे में बताया। किसानों ने सांसद से मांग की कि उनकी मदद की जाए।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना