बालिका गृह में रह रही लड़की को बालिग होने पर बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश करने के आदेश

Jodhpur News - हाईकोर्ट ने उसकी इच्छानुरूप कस्टडी सौंपने के लिए कहा लीगल रिपोर्टर. जोधपुर | हाईकोर्ट न्यायाधीश संदीप मेहता व...

Mar 27, 2020, 08:15 AM IST
हाईकोर्ट ने उसकी इच्छानुरूप कस्टडी सौंपने के लिए कहा

लीगल रिपोर्टर. जोधपुर | हाईकोर्ट न्यायाधीश संदीप मेहता व प्रभा शर्मा की खंडपीठ ने गुरुवार को एक बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका की सुनवाई कर बालिका गृह में रह रही लड़की को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के समक्ष पेश करने के निर्देश दिए। कोर्ट ने कहा कि लड़की माता-पिता के साथ जाने की इच्छा जताती है तो उसकी कस्टडी सौंप दें। अगर वह प्रेमी के साथ जाने की इच्छा जताती है तो उसे लॉकडाउन के पास उसकी इच्छा अनुरूप भेजें।

हाईकोर्ट ने गत 2 मई को लड़की को नाबालिग होने से बालिका गृह उदयपुर भेजने के आदेश दिए थे। बालिका गृह अधीक्षक ने ई-मेल से हाईकोर्ट को पत्र भेजा कि लड़की 1 अप्रैल 2020 को बालिग हो रही है और इस संबंध में मार्गदर्शन मांगा। हाइकोर्ट ने सभी तथ्य देखते हुए 31 मार्च को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश करने के निर्देश दिए। इस दौरान जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव मौजूद रहेंगे। वह अपने माता-पिता के साथ जाने की इच्छा जताती है तो उसे कोरोना के प्रकोप को देखते हुए सेनेटाइज किए हुए वाहन में माता-पिता के घर तक पहुंचाने के पुलिस को निर्देश दिए। अगर वह अपने प्रेमी के साथ जाने की इच्छा जाहिर करती है तो उसे लॉकडाउन तक बालिका गृह में ही रखा जाए और लॉकडाउन की अवधि समाप्त होने के बाद प्रेमी के साथ पुलिस सुरक्षा में भेजा जाए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना