• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Jodhpur News rajasthan news rudysico did an additional work of 35 crores without approval even the errors in the bills the file was sent to the government

रुडसिको ने बिना स्वीकृति 3.5 करोड़ का अतिरिक्त काम किया, बिलों में भी गड़बड़ियां, फाइल सरकार को भेजी

Jodhpur News - बाड़ ही खेत को खाए... कहावत राजस्थान अरबन ड्रिंकिंग वाटर सीवरेज एंड इन्फास्ट्रक्चर कॉर्पोरेशन (रुडसिको) पर...

Feb 11, 2020, 09:00 AM IST

बाड़ ही खेत को खाए... कहावत राजस्थान अरबन ड्रिंकिंग वाटर सीवरेज एंड इन्फास्ट्रक्चर कॉर्पोरेशन (रुडसिको) पर चरितार्थ हो रही है। एक शैक्षणिक संस्था के अतिरिक्त काम को लेकर रुडसिको की ओर से की गई गड़बड़ियों पर विवाद खड़ा हो चुका है। पांच साल पहले जोधपुर में एक शैक्षणिक संस्था के निर्माण के काम का भुगतान आज तक रुडसिको को नहीं मिला। कारण कि रुडसिको ने बिना स्वीकृति के अतिरिक्त काम किया। ऐसे में लगभग साढ़े तीन करोड़ रुपए के भुगतान को लेकर गतिरोध कायम है।

दरअसल रुडसिको ने चार-पांच साल पहले जोधपुर में एक शैक्षणिक संस्था एनआईएफटी के निर्माण कार्य में मनमर्जियां चलाते हुए तय लिमिट से ज्यादा खर्च किया। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद अतिरिक्त भुगतान का पेमेंट लगभग साढ़े तीन करोड़ की राशि की डिमांड की गई। निफ्ट प्रबंधन का कहना था कि किसी की स्वीकृति से अतिरिक्त काम किया, इसलिए उन्होंने पेमेंट रिलीज देने से इनकार करते हुए फाइल को राज्य सरकार के पास भेज दिया है।

मैं फाइल चैक करके बताता हूं


पेटी बिल में न तारीख न ही हस्ताक्षर

{रुडसिको की ओर से ठेकेदार ने जो पेटी बिल पेश किए, उनमें हस्ताक्षर नहीं हैं।

{जो पेटी बिल हैं, उनमें कोई तारीख अंकित नहीं है।

{जब भी कोटेशन दिए जाते हैं, तब उस काम के लिए डिमांड किए आइटम की पूरी सूची संलग्न होती है, तभी वो स्वीकृत होते हैं, लेकिन यहां पर एक ही काम में िकसी ने तीन तो किसी ने पांच आइटम की दर भरी।

{रुडसिको में काम के लिए चलाई नोटशीट भी अधूरी है।

{आवासीय प्रबंधक के पास केवल 15 हजार तक के बिल पास करने की पॉवर होती है, लेकिन तय लिमिट से ज्यादा राशि के पेटी बिल पास किए गए।


केस2


केस1


पेटी बिल संख्या 82-12-04-16 के अनुसार तय लिमिट से ज्यादा करीब 48 हजार की राशि का बिल है। इसकी नोटशीट पर कोई तारीख नहीं है। संबंधित ठेका फर्म के कोटेशन पर भी तारीख अंकित नहीं है।

पेटी बिल संख्या 83-12-04-16 में भी तय लिमिट से ज्यादा राशि का करीब 43 हजार का बिल है। इसमें नोटशीट पर तारीख अंकित नहीं है अौर कोटेशन पर भी न तारीख अंकित है और न ही ठेकेदार के हस्ताक्षर हैं।

केस3


पेटी बिल संख्या 84-12-04-16 के अनुसार करीब 27 हजार का बिल है। इसमें भी नोटशीट पर तारीख नहीं है और न ही कोटेशन पर तारीख अंकित है। सबसे अहम इस काम के लिए एक ठेकेदार से 3 आइटम पर कोटेशन लिए गए तो दूसरे से पांच आइटम पर।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना