यज्ञ का प्रचलन वैदिक युग से है : संत सियाराम

Jodhpur News - कुशलावा गांव में आयोजित भागवत कथा की रविवार को पूर्ण आरती हुई। इस मौके शोभायात्रा निकाली गई, साथ ही हवन हुआ। इस...

Dec 09, 2019, 10:12 AM IST
Pilwa News - rajasthan news the practice of yajna dates back to the vedic era saint siyaram
कुशलावा गांव में आयोजित भागवत कथा की रविवार को पूर्ण आरती हुई। इस मौके शोभायात्रा निकाली गई, साथ ही हवन हुआ।

इस मौके उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए संत सियाराम महाराज ने कहा कि यज्ञ का प्रचलन वैदिक युग से है, वेदों में यज्ञ की विस्तार से चर्चा की गई है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार मिट्‌टी में मिला अन्न कण सौ गुना हो जाता है, उसी प्रकार अग्नि से मिला पदार्थ लाख गुना हो जाता है। अग्नि के संपर्क में कोई भी द्रव्य आने पर वह सूक्ष्मीभूत होकर पूरे वातावरण में फैल जाता है और अपने गुण से लोगों को प्रभावित करता है। संत ने कहा कि जैसे लाल मिर्च को अग्नि में डालने पर वह अपने गुण से लोगों को प्रताड़ित करती है, उसी तरह सामग्री में स्वास्थ्य वर्धक औषधियां जब यज्ञाग्नि के संपर्क में आती है, तब वह अपना औषधीय प्रभाव व्यक्ति के स्थूल व सूक्ष्म शरीर पर दिखाती है और व्यक्ति स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करता चला जाता है। इस मौके सरपंच मोतीराम चौधरी, भैराराम भाकर, श्यामलाल खीचड़, लालसिंह पुरोहित, सुंडाराम विश्नोई, दिनेश राठी, करनाराम भाकर, सोनाराम भाकर, रामसिंह राजपुरोहित आदि मौजूद थे।

X
Pilwa News - rajasthan news the practice of yajna dates back to the vedic era saint siyaram
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना