पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एमजीएच जीएनएम सेंटर में फर्जी दस्तावेज जमा करने का मामला आठों स्टूडेंट्स का प्रवेश निरस्त स्टाफ पर भी कार्रवाई संभव

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर के मामला उजागर करने के बाद विभाग ने कमेटी बना जांच करवाई थी

हेल्थ रिपोर्टर | जोधपुर

महात्मा गांधी अस्पताल में संचालित जीएनएम सेंटर में फर्जी प्रवेश लेने वाले आठ स्टूडेंट के खिलाफ कार्रवाई करते हुए चिकित्सा विभाग ने गुरुवार को उनका प्रवेश निरस्त कर दिया है।

दरअसल महात्मा गांधी अस्पताल में संचालित जीएनएम सेंटर में तत्कालीन अतिरिक्त निदेशक (प्रशिक्षण) आरएएस श्यामलाल गुर्जर ने फर्जी हस्ताक्षर वाले दस्तावेज से सात स्टूडेंट्स ने प्रवेश लिया था। इसके अलावा पाली जीएनएम सेंटर में अपनी सीट त्याग देने के बाद एमजीएच में एक स्टूडेंट्स ने ट्रांसफर बताकर प्रवेश ले लिया था। दैनिक भास्कर ने इस पूरे फर्जीवाड़े का खुलासा करते हुए आठ स्टूडेंट्स और स्टाफ की मिलीभगत उजागर की थी। इसके बाद जोधपुर और जयपुर चिकित्सा विभाग हरकत में आया और जयपुर कमेटी बनाकर जांच कराई। कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद आठ स्टूडेंट्स के खिलाफ एफआईआर कराने के विभाग ने अस्पताल प्रशासन को आदेश दिए। उसी क्रम में चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) राकेश शर्मा ने आठ स्टूडेंट्स का प्रवेश निरस्त करने के आदेश देकर एमजीएच अधीक्षक को आदेश की पालना कर सूचना भेजने के आदेश दिए हैं। अति. निदेशक (प्रशासन ) शर्मा ने बताया कि फर्जी दस्तावेज से प्रवेश लेने वाले आठों स्टूडेंट्स का प्रवेश निरस्त करने के आदेश दिए। जांच रिपोर्ट में पूरे मामले में अस्पताल प्रशासन के स्टाफ की मिलीभगत होना बताया जा रहा है, जिसके चलते जल्द ही स्टाफ पर कार्रवाई की जाएगी।

13 सितंबर
खबरें और भी हैं...