• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jodhpur
  • Jodhpur News video lerinososcope made with four years of hard work seeing live in android phone can easily put the tube in the mouth of the patient
--Advertisement--

चार साल की मेहनत से बनाया वीडियो लेरिंगोस्कोप, एंड्रॉयड फोन में लाइव देखकर मरीज के मुंह में आसानी से डाल सकेंगे नली

Jodhpur News - महावीर प्रसाद शर्मा | जोधपुर एक्सीडेंटल केसेज, गंभीर मरीजों के इलाज के दौरान सांस लेने के लिए मुंह से नली डालते...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 03:41 AM IST
Jodhpur News - video lerinososcope made with four years of hard work seeing live in android phone can easily put the tube in the mouth of the patient
महावीर प्रसाद शर्मा | जोधपुर

एक्सीडेंटल केसेज, गंभीर मरीजों के इलाज के दौरान सांस लेने के लिए मुंह से नली डालते हंै। इसको डालने के लिए लेरिंगोस्कोप उपकरण की मदद लेते हैं। यह काम ट्रेंड नर्सिंग स्टाफ व डॉक्टर करते हैं, इसके बावजूद यह बहुत कठिन है। इसे आसान बनाने के लिए एसजीपीजीआई लखनऊ के एनेस्थिसिया विभाग के डॉ. आशीष कनोजिया ने 2009-2013 तक 4 साल कड़ी मेहनत कर सस्ता, हल्का वीडियो लेरिंगोस्कोप और एंड्रॉयड फोन एप बनाया। इसे लेरिंगोस्कोप में लगे कैमरे व उसे फोन में जोड़कर फोन स्क्रीन से देखकर मरीज के मुंह में आसानी से डाल सकते हंै। डॉ. आशीष कनोजिया ने हाल ही में एम्स में हुई जॉइंट लीडरशिप कॉनक्लेव के दौरान आए आईआईटी और मेडिकल से जुडे विशेषज्ञों को संबोधित करते हुए यह जानकारी दी।

डॉ. अशीष कन्नोजिया

पहले लैपटॉप से बाद में एंड्रॉयड फोन से जोड़ा

डॉ. कनोजिया ने 2009 में प्लास्टिक का लेरिंगोस्कोप बनाया, जिसमें आगे की तरफ कैमरा लगाया गया, जिससे मुंह के अंदर डालते समय सही स्थिति और जगह का अनुमान डॉक्टर को हो सकें। पहले इसको लैपटॉप से जोड़कर देखा गया। फिर लगा कि हर समय डॉक्टर या नर्सिंग स्टाफ अपने साथ लैपटॉप नहीं लेकर घूमता, फिर ख्याल आया, कि इसको स्मार्ट फोन से जोड़ा जाए तो एक एप के माध्यम से इसे एंड्रॉयड फोन से जोड़ा गया। फोन की स्क्रीन पर आसानी से मुंह के अंदर की स्थिति को देखा जा सकता है और आसानी से मरीज के नली डाल सकते हैं।

इस लेरिंगोस्कोप को आसानी से कहीं भी लाया ले जाया जा सकता है। लेरिंगोस्कोप के आगे के भाग में लगा कैमरा और लाइट मरीज के मुंह के अंदर की स्थिति को फोन की स्क्रीन पर आसानी से देखा जा सकता है। इसकी कीमत 50 हजार रुपए है । बच्चों के उपचार में काम में लिए जाने वाले लेरिंगोस्कोप भी उपलब्ध है। बच्चों के इलाज में काम आने वाले लेरिंगोस्कोप कम कंपनियां ही बनाती है। हमारा यह इनोवेशन प्लास्टिक और मेटल दोनों में उपलब्ध हैं। डॉ. कनोजिया ने बताया, कि जिन मरीजों को ऑपरेशन से पहले बेहोशी की दवा देने के लिए और गंभीर मरीजों और दुर्घटना में घायल मरीजों जिनको सांस लेने में दिक्कत होती है उनके लिए यह उपकरण उपयोगी है।

Jodhpur News - video lerinososcope made with four years of hard work seeing live in android phone can easily put the tube in the mouth of the patient
X
Jodhpur News - video lerinososcope made with four years of hard work seeing live in android phone can easily put the tube in the mouth of the patient
Jodhpur News - video lerinososcope made with four years of hard work seeing live in android phone can easily put the tube in the mouth of the patient
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..