जोधपुर

--Advertisement--

तेज हवा से रोजाना 500 लाख यूनिट तक पैदा हो रही विंड पाॅवर, प्रदेश के पास सरप्लस बिजली

मानसून की हवाओं की गति 30 से 40 किमी, तेज चल रहे पवन चक्कियों के पंखे

Dainik Bhaskar

Aug 09, 2018, 07:36 AM IST
Wind power up to 500 lakh's units per day with strong wind

इस बार अगस्त के पहले सप्ताह में रिकाॅर्ड तोड़ बिजली का उत्पादन

जोधपुर. पश्चिमी राजस्थान भले इन दिनों मानसून के ब्रेक लेने से बारिश नहीं हा रही है, लेकिन मानसून की तेज हवाओं से बढ़ी विंड मिल के पंखों की रफ्तार से रिकाॅर्ड बिजली का उत्पादन हो रहा हैं। बीते एक सप्ताह में औसत 500 लाख यूनिट (एलयू) तक बिजली का उत्पादन सिर्फ पवन ऊर्जा से हो रहा है, जबकि गत साल अगस्त के पहले सप्ताह में सिर्फ 300 से 350 लाख यूनिट तक ही बिजली का उत्पादन हुआ था।

ये सिर्फ 30 से 40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चल रही हवा से संभव हो पाया हैं। इसके चलते राजस्थान के पास इन दिनों सरप्लस बिजली मौजूद हैं। प्रदेश में रोजाना 2300 एलयू तक बिजली की खपत हो रही है, लेकिन 2558 एलयू बिजली उपलब्ध हैं। इसके चलते पाॅवर एक्सचेंज में राजस्थान बिजली बेचने के लिए बिड लगाई हैं। औसतन ढाई से तीन रुपए तक में अतिरिक्त बिजली बेची जा रही हैं। देश भर में विंड पाॅवर उत्पादन करने वाले राज्यों में इन दिनों राजस्थान में सर्वाधिक बिजली बन रही हैं। राजस्थान ऊर्जा विकास निगम के चीफ इंजीनियर एमएम रिणवा ने बताया कि इन दिनों विंड मिल से अतिरिक्त बिजली का उत्पादन हो रहा हैं। कई बार तो रियल टाइम पाॅवर प्लांट को कुछ देर के लिए बंद भी करवाए गए थे। वहीं ज्यादा बिजली बेची जा रही हैं।

X
Wind power up to 500 lakh's units per day with strong wind
Click to listen..