--Advertisement--

आज होगा होलिका दहन, कल धुलेंडी पर लगाएंगे गुलाल

बूंदी| जिलेभर में गुरुवार को होली का पर्व धूमधाम से मनाया जाएगा। होली पर्व को लेकर शहर सहित ग्रामीण इलाकों में...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:55 AM IST
बूंदी| जिलेभर में गुरुवार को होली का पर्व धूमधाम से मनाया जाएगा। होली पर्व को लेकर शहर सहित ग्रामीण इलाकों में तैयारियां जोरों पर चल रही है। मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना और अभिषेक की तैयारी की जा रही है। बूंदी शहर में 100 से अधिक स्थानों पर होली का दहन होगा। इससे पहले रंगीन बांदनवार से आसपास की जगह को सजाया जाएगा। साथ ही मनमोहक रंगोलियां भी बनाई जाएगी। आज से दो दिन होली के त्यौहार का उल्लास छाया रहेगा। बुधवार को होली को लेकर लोगों ने जमकर खरीददारी की। शहर के इंद्रा बाजार, सब्जी मंडी, कोटा रोड़, अहिंसा सर्किल पर रंग बिरंगी अबीर गुलाल से दुकानें सज गई है। अलग-अलग किस्मों की पिचकारियों को लेकर बच्चें खासे उत्साहित नजर आ रहे है।

भद्रा और पूर्णिमा के बीच करना होगा संतुलन: पंडित अरुण श्रृंगी ने बताया कि इस बार 1 मार्च को सुबह 8 बजे से पूर्णिमा तिथि लग रही है, लेकिन खास बात ये है कि इस दिन भद्रा भी लग रही है। भद्रा में होलिका दहन नहीं किया जाता है। ऐसे में होलिका दहन फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को भद्रा समय को त्याग करने के बाद किया जाएगा। गुरुवार को पूर्णिमा रात्रि और प्रातःकाल 6.30 तक है, मघा नक्षत्र रात्रि 11. 45 तक, अतिगंड योग प्रातः काल 7.45 तक इसके बाद सुकर्मा योग और भद्रा प्रातःकाल 9. 9 से शाम 7.51 तक है। इसलिए पूर्णिमा व भद्रा के बीच संतुलन करके के ही होलिका दहन करना होगा। पंडित अरुण श्रृंगी ने बताया कि होलिका दहन का शुभ मुहूर्त सांयकाल 7:51 मिनट के बाद ही है। क्षेत्र की परंपरा के अनुसार होलिका दहन का कार्य किया जाएगा ग्रामीण अंचलों में अपने अपने क्षेत्र की परंपरा के अनुसार यह होलिका दहन किया जाएगा भद्रा में होलिका दहन करने से जनसमूह का नाश होता है। प्रतिपदा चतुर्दशी भद्रा और दिन में होलिका जलाना सर्वथा त्याग योग्य है। संयोगवश यदि होलिका जला दी जाए तो सालभर में जन व धन हानि का नुकसान होता है।

हिंडाैली. कस्बे सहित विभिन्न गांव में गुरुवार को होलिका दहन होगा। कस्बे के त्रिवेणी चौक पर स्थित होलिका दहन गुरुवार को मुहूर्त के अनुसार होगा। यहां पर गणपति होली का पूजन करेंगे। उसके बाद सैकड़ों ग्रामीणों के सहयोग से होलिका दहन होगा। इसके अलावा कस्बे के शिवराज नगर, बस स्टैंड के पास भी युवाओं ने होली को सजाने का कार्य शुरु कर दिया है। क्षेत्र के ग्राम पंचायतों का गांव में भी होलिका दहन होगा।

देईखेड़ा. कस्बे में होलिका दहन गुरुवार रात को परंपरागत ढंग से किया जाएगा। शुक्रवार को धुलेंडी का त्यौहार मनाया जाएगा।

कापरेन. शहर व ग्रामीण क्षेत्र में होलिका दहन गुरुवार देर शाम पूजा-अर्चना के बाद किया जाएगा। शुक्रवार को धुलेंडी की हुड़दंग दिनभर मची रहेगी। शहर के गांधी चौक में, गढ़ पैलेस में, कबीरपुरा बालाजी मंदिर के पास वाल्मीकि बस्ती में होलिका दहन किया जाएगा।

जिलेभर में गुरुवार को होली का पर्व मनाया जाएगा, तैयारियां पूरी, केशवराय भगवान के मंदिर में फूलों की होली कल खेली जाएगी

राउमावि बरूंधन में होली के रंगों में रंगी टीचर्स और छात्राएं। बच्चों और टीचर्स ने सूखी होली खेली।