• Home
  • Rajasthan News
  • Karoli News
  • भीड़ को नियंत्रित करती पुलिस पर पथराव, दंगल में भगदड़
--Advertisement--

भीड़ को नियंत्रित करती पुलिस पर पथराव, दंगल में भगदड़

मंडरायल ग्राम पंचायत की ओर से भाई दूज को प्रतिवर्ष होने वाला नाल व कुश्ती दंगल शनिवार को उपद्रवी युवकों की वजह से...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:20 AM IST
मंडरायल ग्राम पंचायत की ओर से भाई दूज को प्रतिवर्ष होने वाला नाल व कुश्ती दंगल शनिवार को उपद्रवी युवकों की वजह से हंगामे की भेंट चढ़ गया।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दंगल के शुरुआत में पहलवान 63 किलो व 72 किलो की नाल उठा रहे थे। इसी दौरान दर्शकों की भीड़ को नियंत्रित करने के दौरान पुलिसकर्मियों ने हल्का बल प्रयोग किया, जिससे किसी युवक को डंडा लग गया। इससे नाराज कुछ युवकों ने पुलिसकर्मियों पर पथराव कर दिया व लाठी-डंडों से मारपीट की। इससे दंगल में भगदड़ मच गई। लोग अपने बचाव में इधर-उधर भागने लगे।

भगदड़ भरे माहौल में हैड कांस्टेबल कमलचंद मीना पर कुछ बदमाशों ने लाठी-डंडों से हमला कर दिया। इससे हैड कांस्टेबल गंभीर रूप से घायल हो गया। उसके कंधे, पसलियों, हाथ व सिर में चोटें आई हैं। घायल पुलिसकर्मी को प्रताप नारायण शर्मा, नवीन, बालकृष्ण शर्मा व कांस्टेबल गोवर्धन सिंह पुलिस की जीप से इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मंडरायल में भर्ती कराया। जहां डॉक्टर ने हाथ में फ्रेक्चर होने के कारण हैड कांस्टेबल कमलचंद को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। इससे दंगल मे नाल उठाने एवं कुश्ती लड़ने दूर-दूर से आए पहलवानों व दर्शकों को मायूस होकर लौटना पड़ा।

मंडरायल. भाई दूज पर कुश्ती दंगल में हुए हमले में घायल पुलिसकर्मी कमल चंद मीना की कुशलक्षेम पूछते थानाधिकारी विजय सिंह।

पिटता रहा जवान, तमाशबीन बन रहेे साथी

दंगल में उपद्रवियों के हंगामे के दौरान पुलिसकर्मियों का एक साथी कमलचंद पिटता रहा, लेकिन वहां मौजूद अन्य पुलिसकर्मी उसे दूर खड़े होकर देखते रहे। पुलिस ने देर सायं तक किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

हालात : एक्सरे रूम की चाबी न होने से नहीं हो पाया एक्स-रे

मंडरायल के चिकित्सालय को भले ही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का दर्जा प्राप्त है, मगर हालात प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र से भी बदतर है। जब घायल हैड कांस्टेबल के हाथ का एक्सरे करवाने की बारी आई तो डॉक्टर व अन्य स्टाफ ने कहा कि एक्सरे रूम की चाबी यहां नहीं है। कर्मचारी अपने साथ करौली ले जाता है।