• Home
  • Rajasthan News
  • Karoli News
  • नहरों की मरम्मत के लिए 2.4 करोड़ मिले, पांचना से पानी की 35 गांवों में जगी आस
--Advertisement--

नहरों की मरम्मत के लिए 2.4 करोड़ मिले, पांचना से पानी की 35 गांवों में जगी आस

मनमोहन गर्ग/ बिहारीलाल अग्रवाल | हिंडौन सिटी/ कैमला करौली-सवाईमाधोपुर के 35 गांवों के किसानों के लिए अच्छी खबर...

Danik Bhaskar | Feb 01, 2018, 01:20 PM IST
मनमोहन गर्ग/ बिहारीलाल अग्रवाल | हिंडौन सिटी/ कैमला

करौली-सवाईमाधोपुर के 35 गांवों के किसानों के लिए अच्छी खबर हैं। इन गांवों में नहरों की मरम्मत एवं सफाई के लिए सिंचाई विभाग की ओर से 2 करोड़ 41 लाख रुपए का बजट स्वीकृत हुआ है और काम शुरू हो गया है। एक दशक से पांचना बांध का पानी नहरों में नहीं छोड़े जाने से किसानों को सिंचाई के लिए पानी नहीं मिल पा रहा था। सब कुछ ठीक-ठाक रहा और मानसून मेहरबान रहा तो इस बार मांड क्षेत्र के किसानों को रबी की फसल की सिंचाई के लिए पानी मिल जाएगा। सिंचाई विभाग ने नहरों से पानी छोड़ने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। नहरों के माध्यम से करौली जिले के 18 व सवाईमाधोपुर जिले के 17 गांवों के किसानों को सिंचाई के लिए पानी मिलेगा। सहायक अभियंता ने बताया कि इस समय नहरों की साफ-सफाई व मरम्मत का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। इसके लिए 2 करोड़ 41 लाख रुपए का टेंडर जारी किया गया है। जुलाई माह के अंत तक मरम्मत का कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा।

इन गांवों में होगी सिंचाई

करौली जिले के चांदनगांव, कौड़िया , अकबरपुर, नौरंगाबाद, दुब्बी, कैमला, रौंसी, कूंजेला, खेडला, खेडली, रलावता, किरवाडा, रानौली, शेखपुरा, शेखपुरा पट्टी, भोंटवाडा, आखावाड़ा, कारवाड़ी व महस्वा व सवाईमाधोपुर जिले के मठ, कुसांय, फुलवाड़ा, खंडीप, पावटा, किशोरपुर, पीलौदा, खेडली, भालपुर, बगलाई, सैवाला, सुंदरपुर, नयागांव, बाढरायल, रेंडायल, मोहचा, नवाजीपुरा, खेडला व मोहचाकापुरा गांवों के किसानों को बांध से सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध हो सकेगा।

विवाद के कारण एक दशक से बांध की नहीं खुली मोरी

कैमला. नहरों की सफाई में जुटे ट्रैक्टर।

पांचना बांध : भराव क्षमता 2100 मिलियन क्यूसिक फुट, सिंचाई के लिए 1860 एमसीएफटी पानी, 240 एमसीएफटी डैड व 1860 एमसीएफटी लाइव स्टोरेज

पांचना बांध की भराव क्षमता 2100 मिलियन क्यूसिक फुट, 240 डैड व 1860 लाइव स्टोरेज है। इस बांध में 1860 एमसीएफटी पानी सिंचाई के लिए उपलब्ध हो सकता है। इस बांध के पानी से करौली व सवाई माधोपुर जिले के 35 गांवों की 9985 हेक्टेयर भूमि (39478) बीघा जमीन सिंचित होती है जिसमें करौली जिले के 18 गांवों की 4895.93 हेक्टेयर व सवाई माधोपुर जिले के 17 गांवों की 5089.03 हेक्टेयर भूमि सिंचित होती है।

सरकार द्वारा करौली के गुडला गांव में करीब 5 करोड़ रुपए की लागत से गुडला सिंचाई लिफ्ट परियोजना बनाई गई है। इससे लिफ्ट के जरिए सिंचाई के लिए पानी मिलेगा व नहरों के द्वारा करौली व सवाईमाधोपुर जिले के 35 से अधिक गांवों के किसानों को सिंचाई के लिए पानी मिलेगा।

सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता राधेश्याम अग्रवाल ने बताया कि 2005 में करौली क्षेत्र के दो समुदायों के बीच सिंचाई के लिए पानी छोड़े जाने को लेकर विवाद हो गया था। विवाद के कारण विगत एक दशक से भी ज्यादा समय से नहरों मे पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। समय-समय पर नहर से पानी छोड़े जाने को लेकर आंदोलन भी हुए।

लिफ्ट के जरिए मिलेगा पानी