• Home
  • Rajasthan News
  • Karoli News
  • Karauli - कोटा बैराज से पानी छोड़ने एवं मध्य प्रदेश के मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेट खोलने से चंबल उफानी
--Advertisement--

कोटा बैराज से पानी छोड़ने एवं मध्य प्रदेश के मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेट खोलने से चंबल उफानी

भास्कर न्यूज | करणपुर/ करौली कोटा बैराज से पानी छोड़ने व मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेट...

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 04:11 AM IST
भास्कर न्यूज | करणपुर/ करौली

कोटा बैराज से पानी छोड़ने व मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेट खोलने के बाद चंबल नदी उफान पर है। दोनों किनारों पर चंबल से सटे गांवों में अलर्ट घोषित किया है। वहीं मौसम विभाग ने जिले में 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी दी है।

करणपुर हैड कांस्टेबल रामसहाय ने बताया कि कोटा बैराज से दो दिन पहले पानी छोड़ने के बाद चंबल में आए उफान से करणपुर क्षेत्र के कई गांवों को अलर्ट कर दिया है। वहीं पुलिस ने चंबल नदी का डंगरिया अस्थल घाट से नदी का जायजा लिया है। मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेट खोलने व भारी बारिश से कूनो नदी के पुल की सड़क बहने से इसका पानी चंबल नदी में आने से चंबल का जल स्तर बढ़ गया है। वहीं मध्यप्रदेश चंबल सीमा से सटे कई गांव टापू बन गए हैं। राजस्थान के सिमारा गांव के समीप मध्य प्रदेश के कूनो नदी का पानी आकर चंबल में मिलान हो रहा है।

लोग एेसे पहुंच रहे है करणपुर से मंडरायल

कई गांवों का संपर्क कटा

चंबल नदी में पानी की भारी आवक होने से करणपुर - मंडरायल,करणपुर - बालेर सड़क के कई गांवों का संपर्क कटा हुआ है। चंबल का नालों में उलटा पानी आने से आवागमन के सभी साधन बंद है। जिससे ग्रामीण पैदल चलकर ही अपनी जान जोखिम में डालकर नाले पार कर रहे हैं। करणपुर से मंडरायल की दूरी करीब 33 किलो मीटर है,लेकिन भकूला नाले में गहरा गड्ढ़ा होने से वाहनों का एक माह से प्रवेश बंद है। इससे निजी वाहनों से कैलादेवी - करौली होते हुए चक्कर लगाकर मंडरायल जाना पड़ रहा है या फिर भकूला नाले को पैदल पार करके उस पार डग्गेमार वाहनों से जाना पड़ता है।