• Home
  • Rajasthan News
  • Karoli News
  • नैरोगेज रेल लाइन का बंद कार्य शुरू कराने की मांग
--Advertisement--

नैरोगेज रेल लाइन का बंद कार्य शुरू कराने की मांग

करौली। अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन देते रेल विकास समिति के पदाधिकारी। कार्यालय संवाददाता | करौली नैरोगेज रेल...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:40 AM IST
करौली। अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन देते रेल विकास समिति के पदाधिकारी।

कार्यालय संवाददाता | करौली

नैरोगेज रेल लाईन का बंद कार्य पुन: शुरू कराने की मांग को लेकर रविवार को रेल विकास समिति की बैठक ब्राह्मण सभा भवन में आयोजित हुई। जिसमें करौली को रेल सेवा से जोड़ने के लिए स्वीकृत परियोजना के सुचारू क्रियांवयन के लिए उचित प्रयास व पहल करने की आवश्यकता पर बल दिया।

समिति के कार्यकारी अध्यक्ष मोतीलाल अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई बैठक में पिछली गतिविधियों की समीक्षा की गई। साथ ही 22 अप्रेल को मुख्यमंत्री के संभावित करौली दोैरे को देखते हुए समस्या समाधान के लिए ज्ञापन देने का सभी सदस्यों ने निर्णय लिया। बैठक में लिए निर्णय के अनुसार राज्य भण्डारण निगम के अध्यक्ष जनार्दन गहलोत, भाजपा प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा व संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर एवं भाजपा प्रान्तीय कार्यकारिणी सदस्य पूर्व विधायक रोहिणी कुमारी को ज्ञापन देकर धौलपुर-सरमथुरा नैरोगेज लाईन के आमान परिवर्तन के बंद कार्य को फिर से शुरू करवाने की मांग की गई। समिति सदस्यों ने रविवार देर रात भंवर विलास पहुंचकर पूर्व विधायक रोहिणी कुमारी की उपस्थिति में भाजपा प्रांतीय पदाधिकारियों से मुलाकात की। उन्हें रेल परियोजना की स्वीकृति से लेकर मौजूदा स्थिति से अवगत कराया। रेल विकास समिति मंगलवार को कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भी देगी।

इस दौरान मोतीलाल अग्रवाल, वेणुगोपाल शर्मा, सत्येन चतुर्वेदी, कैलाशचन्द शर्मा, जितेन्द्र मित्तल,लक्ष्मीनारायण अग्रवाल, राजेन्द्र भारद्वाज, अजय धाभाई, अरविन्द राय, गोपेश चतुर्वेदी, अजय मुखर्जी, पूरणप्रताप चतुर्वेदी, विनोद गुर्जर, चतुर्वेदी, चक्रपाणि वशिष्ठ, राधेश्याम स्वर्णकार, अरुण जिंदल, सुशील भारद्वाज आदि थे।



इकवाल खां गौरी, महेश कुमार शर्मा, रविकुमार सेन, जयलाल माली, रमेश पाराशर, देवकीनन्दन चतुर्वेदी, ओमप्रकाश भारद्वाज, कौशलेन्द्र चतुर्वेदी, प्रभाकर महेरा, सुनील गुप्ता, दिनेश सेठी, राजेशपाल, धर्मेन्द्र पाल सहित अनेक लोग मौजूद थे।