--Advertisement--

साक्षर करना किसी को जिंदगी देने के समान

जिला स्तरीय अन्तर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पंचायत समिति सभागार में आयोजित किया गया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि...

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 04:11 AM IST
जिला स्तरीय अन्तर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पंचायत समिति सभागार में आयोजित किया गया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि प्रधान पंचायत समिति इन्दू देवी,व अध्यक्षता जिला साक्षरता व सतत शिक्षा अधिकारी हेमराज सिंह की ओर से की गई।

कार्यक्रम से पूर्व अतिथियों ने मां सरस्वती के चित्रपट पर दीप प्रज्जवलित व माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि प्रधान ने साक्षरता के कार्यक्रम को सभी की ओर से जिले में किए जाने पर प्रसंशनीय बताया । उन्होंने कहा कि किसी निरक्षर को साक्षर करने पर उसकी जिंदगी को नवजीवन देने के समान है। इसके बाद कार्यक्रम में सहायक परियोजना अधिकारी मुरारी लाल की ओर से सारक्षरता सतत शिक्षा से संबंधित प्रतिवेदन का वाचन किया गया।

जिसमें विभाग की ओर से साक्षरता में किए गए कार्यों का विवरण साक्षर व असाक्षरों की संख्या जिले में संचालित ग्राम पंचायय मुख्यालयांे पर लोक शिक्षा केन्द्र व महात्मा गांधी पुस्तकालय वाचनालय,ग्राम लोक शिक्षा समिति,ब्लॉक लोक शिक्षा समिति,जिला लोक शिक्षा समिति व परीक्षाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। प्रधानाचार्य रमेश चंद शास्त्री की ओर से वेदों मेंे व आश्रमों में दी गई प्रारंभिक शिक्षा के विषय में जानकारी दी गई। प्रधानाचार्य गोविन्द स्वरूप लवानिया ने पूर्व में चलाए गए आक्षरधाम,उत्तर साक्षरता,सतत शिक्षा व उनके की ओर से साक्षरता के क्षेत्र में किए गए कार्यों के बारे में अपने अनुभव बताए।

प्रधानाचार्य ओमप्रकाश कुशवाह ने राज्य सरकार के निर्देशानुसार पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों को साक्षरता विभाग से जोड़ने पर तन व मन से निरक्षरता को देर करने के लिए हमेशा तैयार व जिम्मेदारी से कार्य करने के लिए कहा गया।

कार्यक्रम में जिले के प्रधानाचार्य व पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों,पूर्व प्रेरक व ग्रामीणों ने भाग लिया। मंच का संचालन चांदराम वर्मा की ओर से किया गया। वीणा मैमोरियल पीजी कॉलेज में भी मनाया गया साक्षरता दिवस वीणा मैमोरियल पीजी कॉलेज में विश्व साक्षरता दिवस पर व्याख्यान माला का आयोजन किया गया। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. लक्ष्मण धाकड़ ने बताया कि महाविद्यालय के सेमीनार हाल में आयोजित व्याख्यान माला में छात्र-छात्राओं व सभी व्याख्याताओं ने भाग लिया।

वहीं महाविद्यालय के निदेशक डॉ. बीएस शुक्ला ने विद्यार्थियों से कहा कि कठोर परिश्रम,सच्चाई,ईमानदारी के मार्ग को अपनाकर लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है तथा सभी को पढ़ने का अधिकार है,समाज साक्षर होगा तो राष्ट्र प्रगति करेगा और निरक्षता अभिशाप है।