नौनिहालों को दलिया व खिचड़ी के बजाय अब मिलेगा सलाद व पौष्टिक भोजन

Karoli News - आंगनबाड़ी केन्द्रों में पढ़ने वाले बच्चों को दलिया-खिचडी की जगह अब सलाद के साथ गर्म भोजन मिलेगा। बच्चों के...

Feb 15, 2020, 09:35 AM IST
Kariri News - rajasthan news now instead of oatmeal and khichdi the naval will get salad and nutritious food

आंगनबाड़ी केन्द्रों में पढ़ने वाले बच्चों को दलिया-खिचडी की जगह अब सलाद के साथ गर्म भोजन मिलेगा। बच्चों के पोषाहार में बदलाव करते हुए हर दिन अलग-अलग रेसीपी देने का निर्णय लिया है। हिंडौन क्षेत्र में 334 आंगनबाड़ी केन्द्रों के 10 हजार नौनिहालों को इसका लाभ मिल सकेगा। हालांकि विभाग ने नई रेसीपी के लिए बजट में कोई बदलाव नहीं किया है। इस संबंध में निदेशालय समेकित बाल विकास सेवाएं जयपुर ने आदेश जारी कर गर्म पूरक पोषाहार में बदलाव किया है। पोषाहार में अब 12 से 15 ग्राम प्रोटीन और 500 किलो कैलोरी ऊर्जा का मानक तय किया है। यह सिस्टम 15 फरवरी से लागू होगा।

अभी तक मिल रहा था दलिया व खिचड़ी: अभी आंगनबाड़ी केन्द्रों पर दलिया एंव खिचड़ी के साथ नाश्ते में चावल के मुरमुरे या भुने हुए चने गुड केे साथ हलवा उपलब्ध कराया जा रहा है। मौजूद रेसीपी के लिए प्रति बच्चा 3.50 रुपए नाश्ता एवं 4.50 रुपए गर्म पूरक पोषाहार के लिए निर्धारित है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में खानपान की विविधता को देखते हुए 3 से 6 साल तक के बच्चों के लिए नाश्ता एंव पूरक पोषाहार की रेसीपी में बदलाव किया गया है। नई रेसीपी मौजूदा रेसीपी के लिए निर्धारित दरों के तहत ही उपलब्ध कराई जाएगी।

बच्चों के लिए अब ये नई रेसिपी

सोमवार : नाश्ता - केला या मौसमी फल, भोजन - मीठा दलिया, गेंहूं व मूंग दाल

मंगलवार : नाश्ता - केला या मौसमी फल, भोजन - रोटी, सब्जी और दाल

बुधवार : नाश्ता - दूध, भोजन - खिचडी, चावल एंव मूंग दाल

गुरूवार : नाश्ता - बेसन व तिल के लड्डू, भोजन - चावल और चना दाल लौकी

शुक्रवार : नाश्ता - मुरमुरे/ पौहा, भोजन - बाजरा का खिचडा/कढी-चावल वार -

शनिवार : नाश्ता - अंकुरित/ उबली दालें, भोजन - खिचड़ी (आंवला, चटनी या नीबू)

भोजन में डालना होगा नींबू, सलाद में खीरा

नमकीन खाने में आवश्यकता अनुसार नींबू डालना होगा, ताकि आयरन के साथ विटामिन सी की भी पूर्ति हो सके। भोजन में रोजाना अलग-अलग सब्जियों के साथ गाजर, चुकंदर, खीरा, ककड़ी आदि सलाद में देना होगा। सब्जी पकाने में रिफाइंड की बजाय सरसों या तिल का तेल काम में लेना होगा। दाल एवं खिचड़ी में घी के साथ जीरे का छौंक लगाना होगा। लड्डू बनाने में शुद्ध घी उपयोग में लेना होगा। साबुत दालों को अंकुरित करने में करीब 3-3 घंटे के अंतराल पर न्यूनतम चार बार पानी बदलना होगा। सब्जी बनाने के लिए लोहे की कडाही का ही उपयोग करना होगा। पूरक पोषाहार बनाने में डबल फोर्टिफाइड तेल एवं नमक का उपयोग करना होगा।

सीडीपीओ जीतेन्द्र जिंदल का कहना रहा कि 15 फरवरी से आंगनबाड़ी केन्द्रों के बच्चों के पोषाहार में बदलाव किया गया है। इसकी पूर्ण रुप से पालना कराने के लिए सभी महिला सुपरवाइजरों को निर्देशित कर दिया गया है।

X
Kariri News - rajasthan news now instead of oatmeal and khichdi the naval will get salad and nutritious food
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना