ढहरिया में एक सप्ताह से पेयजल आपूर्ति नहीं

Karoli News - ढहरिया में एक सप्ताह से पेयजल आपूर्ति नहीं नादौती ग्रामीण| ढहरिया में एक सप्ताह से पेयजल सप्लाई नहीं हो रही...

Jan 16, 2020, 11:10 AM IST
Todabheem News - rajasthan news there is no supply of drinking water in dhahariya for a week
ढहरिया में एक सप्ताह से पेयजल आपूर्ति नहीं

नादौती ग्रामीण| ढहरिया में एक सप्ताह से पेयजल सप्लाई नहीं हो रही है। इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि ढहरिया व उजीरना गांव में चार साल पूर्व तीन करोड़ से पेयजल योजना बनी थी, लेकिन योजना के बाद भी एक दिन छोड़कर एक दिन पेयजल सप्लाई हो रही है। महीने भर में 10 दिन ही नलों से पानी सप्लाई की जाती है। इसके कारण ग्रामीणों को 500 रुपए में पानी का टैंकर खरीदकर प्यास बुझाने को मजबूर है। ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। ग्रामीणों ने कलेक्टर को ज्ञापन देकर नलों से आपूर्ति सुचारु करवाने की मांग की है।

निर्माण के बीस दिन बाद ही उखड़ी डामरीकरण सड़क

टोडाभीम ग्रामीण| सार्वजनिक निर्माण विभाग के द्वारा साढ़े चार करोड़ की लागत से टोडाभीम-गुढ़ाचंद्रजी सड़क डामरीकरण के बीस दिन बाद ही उखड़ने लगी है। सामाजिक कार्यकर्ता धारा सादपुरा व अभिषेक नारेडा, ऋषिकेश मीना ने बताया की टोडाभीम-गुढ़ाचंद्रजी मार्ग पर कुछ दिन पूर्व सार्वजनिक निर्माण विभाग के द्वारा साढ़े चार करोड़ रुपए की लागत से करवाए गए डामरीकरण का कार्य उखड़ने लगा है। ग्रामीणों के विरोध के चलते मौके पर बुलवाकर एसडीएम दुर्गाप्रसाद मीना के द्वारा सड़क निर्माण कार्य का निरीक्षण भी किया गया था। एसडीएम को गुणवत्ता में कमी मिलने पर सम्बन्धित अधिकारियों को गुणवत्ता सुधारने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों पर एसडीएम के आदेश बेअसर साबित हुए।

खेड़ला की झोंपड़ी के रास्ते पर कीचड़, ग्रामीण परेशान

खेड़ला| ग्राम पंचायत खेड़ला के झोपड़ी गांव के आम रास्ते में कीचड़ पसरा होने से ग्रामीणों को खासी परेशानी हो रही है। ग्रामीणों ने बताया कि खेड़ला की झोपड़ी गांव में लम्बे समय से पानी कि निकासी के लिए नालियों का निर्माण नहीं होने से घरों का सारा गन्दा पानी आम रास्ते में जगह-जगह पसरा हुआ है। जिसमें गहरे गड्ढे होने के साथ ही मच्छर पनप रहें है। बीमारियां फैलने का भी अंदेशा बना हुआ है। जिसके चलते ग्रामीणों को परेशानी हो रही है। ग्रामीणों ने बताया कि इस बारे में कई बार जन प्रतिनिधियों व कर्मचारियों को अवगत कराया गया, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई है। इस संबंध में ग्रामीणों ने कलेक्टर को ज्ञापन देकर समस्या का समाधान करने की मांग की है।

ढिंढोरा-हुक्मीखेड़ा में न रेलवे कार्यालय न टिकट घर

हिंडौन सिटी(ग्रामीण)/ ढिंढोरा| सुनने में भले ही अचरज लगे पर आज भी कई ऐसे स्टेशन हैं, जहां ना स्टेशन मास्टर कार्यालय है और ना ही टिकट घर, लेकिन स्टेशन पर ट्रेनों का ठहराव होता हैं। दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर हिंडौन क्षेत्र में दो ऐसे स्टेशन हैं। इनमें एक ढिंढोरा-हुक्मीखेड़ा और दूसरा सिकरौदा रेल स्टेशन। इन दोनों ही स्टेशनों पर ट्रेनों का ठहराव होता है, लेकिन यहां पर स्टेशन कार्यालय और टिकट घर नहीं हैं। टिकट वितरण के लिए रेलवे की ओर से एक व्यक्ति को लगाया हुआ है, जो ट्रेनों के समय पर टिकट बांटने के लिए आता है और ट्रेन जाने के बाद चला जाता हैं। इन स्टेशनों पर रात्रि को पैसेंजर ट्रेनों का ठहराव भी नहीं होता हैं। यही नहीं सुविधाओं का अभाव होने के चलते इन स्टेशनों से जुडे़ करीब 50 गांवों के हजारों लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं।

X
Todabheem News - rajasthan news there is no supply of drinking water in dhahariya for a week
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना