पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sapotara News Rajasthan News Water Supply In Many Villages Of Hindaun Is Only Five Minutes In 15 Days Supply Is Not Being Done In Sapotra

हिंडौन की कई बस्तियों में 15 दिन में सिर्फ पांच मिनट जलापूर्ति, सपोटरा में भी नहीं हो रही सप्लाई

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्यालय संवाददाता | हिंडौन सिटी

शहर की चौबेपाड़ा, दुब्बेपाडा, पाठकपाड़ा व कानाहनुमान बस्ती में 15 दिनों से नलों से मात्र 5 मिनट ही पानी आ रहा हैं। पेयजल संकट से जूझ रहे काफी लोग बुधवार को ब्रह्मा बागरेनिया के नेतृत्व में जलदाय विभाग कार्यालय पहुंचे और एईएन को खरी-खोटी सुनाते हुए पानी की समस्या के समाधान की मांग की।

प्रदर्शन में शामिल ब्रह्मा बागरेनिया, कमल, दीनदयाल, अरुण, सौरभ, भोला, प्रिंस, सुनील, अनिल गोयल, पाेपी आदि ने बताया कि पुरानी टंकी की सप्लाई लाइन को राइजिंग लाइन से जोड़ दिया गया है, जिससे पुरानी बस्तियों में पानी की समस्या खड़ी हो गई हैं। जलदाय कार्यालय पहुंचे लोगों ने एईएन को चेतावनी दी कि पूर्व की भांति पानी की सप्लाई की व्यवस्था शुरू नहीं की गई तो तीन दिन बांद उनको उग्र आंदोलन करने करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। एईएन गोविंद सिंह राजावत ने लोगों को पानी की समस्या के समाधान का आश्वासन दिया।

एईएन से बोले लोग-तीन दिन में पेयजल व्यवस्था नहीं सुधरी तो करेंगे उग्र आंदोलन

हिंडौन सिटी| एईएन को खरी-खोटी सुनाते वार्ड 29 के लोग।

सपोटरा : एक माह से जलापूर्ति नहीं, लाइन में कचरा फंसने-लीकेज के कारण घरों तक नहीं पहुंच रहा पानी

सपोटरा| उपखंड मुख्यालय के गणेश गंज चौराहा परिक्षेत्र में लोगों को एक माह से पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है।

लोगों ने बताया कि गणेश गंज में किले वाली जलयोजना से जलापूर्ति की जाती है, लेकिन पाइपों में कचरा फंसने तथा लीकेज के कारण कई घरों मे पानी नही मिल रहा है। इसकी जलदाय विभाग के अधिकारियों को बारंबार शिकायत के बाद कोई भी ध्यान नहीं दिया रहा। कनिष्ठ अभियंता रामलाल मीणा ने बताया कि नई पाइप लाइन बिछाने के लिए उच्चाधिकारियों को प्रस्ताव भेज दिया गया है।

कैमला : भूजल स्तर गिरने से नलकूप नकारा, टैंकरों से पानी खरीद कर बुझा रहे प्यास

कैमला| कैमला की बैरवा बस्ती मे पानी के लिए प्रदर्शन करते लोग।

भास्कर न्यूज | कैमला.

कैमला | यहां बैरवा बस्ती में 6 माह से पेयजल किल्लत मची हुई है। मोहल्ले में न तो कोई हैंडपंप है और न ही कोई कुआं। मोहल्ले के लोगों को 2 मीटर दूर से कीचड़ मे होकर पानी लाना पड़ता है। कई परिवारों को ₹500 रुपए में टैंकर मंगाकर प्यास बुझानी पड़ती है। पेयजल समस्या से त्रस्त मोहल्ले वासियों ने बुधवार को नसीर बाबा के स्थान पर जलदाय विभाग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन करने वालों में मटोली, मुनिराज, लक्ष्मण, रामफूल, श्यामलाल, जितेंद्र, पप्पू सहित सैकड़ों लोगों ने बताया कि मोहल्ले में 150 परिवारों को पानी के लिए भटकना पड़ रहा है। पूर्व में यहां पर एक हैंडपंप था जो खराब पड़ा हुआ था जिसमें मोहल्ले वासियों ने चंदा एकत्र कर खराब हैंडपंप में मोटर डालकर उसमें से पानी निकाला। भूजल स्तर गिरने से 6 माह से नलकूप भी नकारा हो गया है।

खबरें और भी हैं...