• Home
  • Rajasthan News
  • Khairthal News
  • मांगें नहीं मानी तो 12 से पटवारी करेंगे बहिष्कार, सौंपा ज्ञापन
--Advertisement--

मांगें नहीं मानी तो 12 से पटवारी करेंगे बहिष्कार, सौंपा ज्ञापन

लक्ष्मणगढ़ | राजस्थान पटवार संघ के नेतृत्व में शुक्रवार को पटवार संघ लक्ष्मणगढ़ के पटवारियों ने विभिन्न मांगों को...

Danik Bhaskar | Feb 10, 2018, 03:55 AM IST
लक्ष्मणगढ़ | राजस्थान पटवार संघ के नेतृत्व में शुक्रवार को पटवार संघ लक्ष्मणगढ़ के पटवारियों ने विभिन्न मांगों को लेकर मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में पटवारियों द्वारा विभिन्न मांगों के समर्थन में सरकार द्वारा शीघ्र ही निर्णय लेने को कहा गया है। अन्यथा 12 फरवरी से राजस्थान सरकार की महत्वाकांक्षी योजना डीआईएलआरएमपी (नक्शा तरमीम कार्य व जमाबंदी सेग्रिगेशन) का सभी पटवारियों द्वारा पूर्णतया बहिष्कार किया जाएगा। राजस्थान पटवार संघ शाखा लक्ष्मणगढ़ अध्यक्ष भगतसिंह चौधरी ने बताया कि मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार को सौंपे गए ज्ञापन में पटवारियों ने मांग रखी है कि पटवारी को तकनीकि पद घोषित करते हुए पद की शैक्षणिक योग्यता स्नातक एवं पटवारी पद का वेतन 6ठें वेतनमान के अनुसार पै-बैण्ड-11 (9300-34800) में ग्रेड पे 3600 निर्धारित किया जाकर 7वें वेतनमान में वेतन निर्धारण लेबल 10 में किया जाए।। ज्ञापन सौंपने के दौरान अध्यक्ष भगतसिंह चौधरी, प्रदीप जैन, शिवराज बुन्देला, पुखराज मीणा, योगेश मीणा, मानसिंह, सुरेन्द्र खत्री, प्रभुदयाल, हरी बुन्देला, तेज बहादुर, बाबूलाल शर्मा सहित दर्जनों पटवारी मौजूद थे।

खैरथल : राजस्थान पटवार संघ के मांग पत्र पर काेई कार्यवाही नहीं हाेने से नाराज होकर 12 फरवरी से डीअाईएलअारएमपी का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। इस संदर्भ में किशनगढ़बास पटवार संघ के पटवारियाें ने शुक्रवार को तहसीलदार काे ज्ञापन साैंपा। ज्ञापन में बताया गया है कि 22 जून काे अायाेजित समझाैता वार्ता में जयपुर में राजस्थान सेवा परिषद व राज्य सरकार के मध्य लिखित समझाैता हुअा था। जिसमें राजस्थान सेवा परिषद के 11 सूत्रीय मांग पत्र की मांगाें के शीघ्र निस्तारण करने पर सहमति बनी थी। लेकिन 235 दिवस व्यतीत हाेने के बाद भी अभी तक समझाैता की पूर्ण रूप से पालना नहीं की गई है। इससे नाराज होकर राजस्थान पटवार संघ 15 जनवरी से अांदाेलनरत है, लेकिन सरकार इसके बाद भी नहीं चेत रही है और मांगों पर विचार नहीं कर रही है। अब संगठन ने चेतावनी दी है कि यदि 12 फरवरी तक मांगें नहीं मानी गई तो सरकार की महत्वाकांक्षी याेजना डीअार्इएलअारएमपी यानि नक्शा, तरमीम कार्य व जमाबंदी सेग्रिगेशन का पूर्ण बहिष्कार किया जाएगा।

लक्ष्मणगढ़. तहसीलदार को ज्ञापन सौंपते हुए पटवारी।