• Home
  • Rajasthan News
  • Khairthal News
  • जल्लाराम बोला-पुलिस ने मेरे बेटे को गोलियों से मार डाला, मुझे न्याय चाहिए
--Advertisement--

जल्लाराम बोला-पुलिस ने मेरे बेटे को गोलियों से मार डाला, मुझे न्याय चाहिए

अलवर| उपद्रव के दौरान खैरथल में पुलिस की गोली से मरे युवक पवन कुमार के पिता जल्ला राम जाटव ने कहा कि समाज के लोग...

Danik Bhaskar | Apr 03, 2018, 05:15 AM IST
अलवर| उपद्रव के दौरान खैरथल में पुलिस की गोली से मरे युवक पवन कुमार के पिता जल्ला राम जाटव ने कहा कि समाज के लोग शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे। पुलिस ने मेरे बेटे को गोली चलाकर मार दिया। मेरा बेटा समाज के लिए शहीद हुआ है। उन्होंने कहा कि मेरा बेटा संसार से चला गया। मैं तब तक बेटे के शव को नहीं लूंगा, जब तक मुझे न्याय नहीं मिला जाता है। उन्होंने मृतक बेटे पवन की मूर्ति खैरथल के अंबेडकर सर्किल के पास लगाने, पुलिस द्वारा समाज के गिरफ्तार किए गए लोगों को रिहा करने और सरकार से मुआवजे के रूप में एक करोड़ रुपए की मांग की। जल्ला राम ने कहा कि कुछ लोग अस्पताल में आकर कमेटी का गठन करने की बात कह रहे हैं। मैं किसी कमेटी बात से सहमत नहीं हूं। समाज के निर्दोष लोगों पर पुलिस व रेलवे द्वारा दर्ज किए गए मुकदमे वापस लिए जाएं। मृतक पवन का पिता जल्ला राम उमरैण पंचायत समिति सदस्य है। पवन का शव खैरथल से अलवर के सामान्य अस्पताल लाने के बाद यहां देर रात काफी संख्या में लोग एकत्र रहे। एहतियात के तौर पर अस्पताल में पुलिस बल तैनात रहा। विधायक जयराम जाटव के अस्पताल पहुंचने पर लोगों ने नारेबाजी की और वापस जाओ के नारे लगाए। इसके बाद विधायक जाटव ने पीएमओ ऑफिस में प्रदर्शनकारियों की बैठक की और मृतक युवक के शव को लेने के साथ कमेटी गठित करने की बात कही, लेकिन विधायक की बात प्रदर्शनकारियों ने खारिज कर दी। उधर, कांग्रेस जिलाध्यक्ष टीकाराम जूली ने कहा कि जब तक मृतक के परिवार को न्याय नहीं मिल जाता है, तब तक प्रशासन से समझौते की कोई बात नहीं होगी। इस दौरान नगर परिषद के नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र मीणा, दलित नेता सूरजमल कर्दम, नीलेश खंडेलवाल, जगदीश वर्मा, सुभाष भारती, अशोक वर्मा सहित काफी संख्या में लोग मौजूद थे।

धरना शुरू, मांगे नहीं मानने तक नहीं लेंगे शव

अलवर। बंद के दौरान खैरथल एवं अलवर में हुई हिंसा के लिए दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई सहित अन्य मांगों को लेकर सोमवार शाम जिला अस्पताल गेट के सामने बंद समर्थकों व मृतक के परिजनों ने बेमियादी धरना शुरू कर दिया। मृतक के परिजनों ने मांगे नहीं माने जाने तक शव लेने से इनकार कर दिया है।