Hindi News »Rajasthan »Khairthal» किशनगढ़बास विधायक ने विधानसभा में कहा-विकास की नीति सड़क से होती है तय

किशनगढ़बास विधायक ने विधानसभा में कहा-विकास की नीति सड़क से होती है तय

अलवर | किशनगढ़बास विधायक रामहेत यादव ने बुधवार को विधानसभा में सड़क, पेयजल, किसान, मजदूर व कर्मचारियों के लिए बजट...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 15, 2018, 05:25 AM IST

किशनगढ़बास विधायक ने विधानसभा में कहा-विकास की नीति सड़क से होती है तय
अलवर | किशनगढ़बास विधायक रामहेत यादव ने बुधवार को विधानसभा में सड़क, पेयजल, किसान, मजदूर व कर्मचारियों के लिए बजट में की गई घोषणाओं पर बात रखी। यादव ने कहा कि किसी भी प्रांत की विकास की नीति उसकी सड़क रहती है। चार साल में सरकार ने प्रदेश को 49 हजार 878 करोड़ की सड़कें दी हैं। यही नहीं बजट में 5 हजार किलोमीटर की नई सड़क बनाने की योजना दी है।अलवर जिले में एनसीआर पीबी के तहत 932 करोड़ की 629 किलोमीटर की सड़कें बनाई जा रही है। ग्रामीण व शहरी गौरवपथ के लिए भी प्रदेश में अनुकरणीय काम किया गया है। प्रदेश में जितने नेशनल हाइवे आजादी के बाद बने,इतने चार साल में बना दिए गए हैं। यादव ने कहा कि जल स्वावलंबन के लिए प्रदेश पहले स्थान पर रहा है।पेयजल एवं सिंचाई के लिए मुख्यमंत्री ने 52 हजार करोड़ रुपए की योजना की क्लियरेंस दी है। इसमें ईआसीपी योजना में 37 हजार करोड़ का बजट है।खैरथल और किशनगढ़बास नगर पालिका के लिए पीएचईडी मंत्री ने 82 करोड़ रुपए दिए हैं। मेरी विधानसभा में राजकीय महाविद्यालय खोलने के लिए आभारी हूं। महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए 4000 महिलाओं को 12 तरह के तकनीकी प्रशिक्षण देने के लिए 23 करोड़ का प्रावधान किया है। हर जिले में नंदी गौशाला खोलने एवं गैस प्लांट के लिए 40 लाख का अनुदान देने की घोषणा की है। कांग्रेस किसानों का 8 करोड़ का कर्जा माफ नहीं कर पाई और हमने 8000 करोड़ का कर्ज माफ कर दिया। किसानों को कृषि कनेक्शन दिए गए। भैरो सिंह अंत्योदय योजना में पचास हजार का कर्ज सिर्फ 4 प्रतिशत ब्याज पर दिया जाएगा। शिक्षा विभाग में पदोन्नति दी है।सभी विभागों में 1 लाख 80 हजार से अधिक वैकेंसी निकाली हैं। चार साल में किशनगढ़बास को नगर पालिका बनाया, कोटकासिम में मुंसिफ कोर्ट एवं उपखंड बनाया। खैरथल में 61 लाख 50 हजार का बाईपास, 132 केवी जीएसएस दिया। उन्होंने कहा कि क्षेत्र हरियाणा बॉर्डर से लगता है। किसान अपनी फसल रेवाड़ी व रोहतक में बेचते है। इसके लिए जमाबंदी नकल की जरूरत पड़ती है। ये देर से मिलती है। ऐसे में कृषि मंडी खोल दी जाए तो किसानों को राहत मिलेगी। खैरथल औद्योगिक क्षेत्र में सभी प्लाट बिक चुके है। उद्योग क्षेत्र के लिए सिवाणा व बल्लभग्राम में जमीन ले ली जाए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Khairthal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×