--Advertisement--

समझा, कैसे होता है एनसीआर के पैसे का उपयोग

शहर विधायक बनवारी लाल सिंघल ने विधानसभा में जिले में एनसीआर पीबी के तहत बनाई जा रही सड़कों, नंदी गोशाला, आंगनबाड़ी...

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2018, 05:30 AM IST
समझा, कैसे होता है एनसीआर के पैसे का उपयोग
शहर विधायक बनवारी लाल सिंघल ने विधानसभा में जिले में एनसीआर पीबी के तहत बनाई जा रही सड़कों, नंदी गोशाला, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय व किसानों के लिए की गई घोषणाओं पर सरकार की जमकर तारीफ की।

सिंघल ने कहा कि यह पहली बार समझ में आया कि एनसीआर के पैसे का उपयोग किस तरह होता है। वर्तमान में 932 करोड़ की सड़कों का काम अलवर जिले में चल रहा है। मुख्यमंत्री ने आरटीओ में ऑनलाइन प्रक्रिया लागू कर अनुकरणीय काम किया है। अब तक बाहर बैठे दलालों को सुविधा शुल्क देना पड़ता था। 80 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को रोडवेज में मुफ्त यात्रा देने की सुविधा अच्छा विजन है। उनके साथ एक अटेंडेंट का भी 50 प्रतिशत किराया लगेगा। लघु एवं सीमांत किसानों के 50 हजार तक ऋण माफ किए और 30 सितंबर 2017 तक ओवर ड्यूज समाप्त कर दिए, इससे किसान को राहत मिलेगी। विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री ने राजस्थान कृषक ऋण राहत योजना का गठन किया है। अब तक नर गोवंश सड़कों पर आवारा घूमते थे। अब नंदी गोशाला खोलने से इन्हें आश्रय मिलेगा। यह पुण्य का काम भी है। गोशालाओं को अब तक 3 महीने का पशु आहार और चारा मिलता था, इसे बढ़ाकर छह महीने कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के कुछ साथियों ने महिला कर्मियों को मानदेय के लिए उकसाया। बजट में मुख्यमंत्री ने उन्हें तोहफा दिया। आगामी वर्ष में 1 लाख 8 हजार नई नौकरी लगाने का काम राजस्थान सरकार कर रही है। हर विधानसभा में 15-15 किलोमीटर सड़कें दी हैं। नौगांवा में कृषि महाविद्यालय खुलने से किसानों के बेटे पढ़कर उन्नत तकनीक से खेती करेंगे। प्रदेश में जब भाजपा सरकार आई तो 32 साल बाद वाल्मीकि समाज के 329 लोगों को सफाईकर्मी की नौकरी दी गई।

बनवारी सिंघल

शहर विधायक बनवारी लाल सिंघल ने बजट पर बहस के दौरान सरकार की तारीफों के पुल बांधे, बोले-

रामहेत ने कहा-विकास की नीति सड़क से होती है तय

किशनगढ़बास विधायक रामहेत यादव ने बुधवार को विधानसभा में सड़क, पेयजल, किसान, मजदूर व कर्मचारियों के लिए बजट में की गई घोषणाओं पर बात रखी। यादव ने कहा कि किसी भी प्रांत की विकास की नीति उसकी सड़क रहती है। चार साल में सरकार ने प्रदेश को 49 हजार 878 करोड़ की सड़कें दी हैं। यही नहीं बजट में 5 हजार किलोमीटर की नई सड़क बनाने की योजना दी है।अलवर जिले में एनसीआर पीबी के तहत 932 करोड़ की 629 किलोमीटर की सड़कें बनाई जा रही है। ग्रामीण व शहरी गौरवपथ के लिए भी प्रदेश में अनुकरणीय काम किया गया है। प्रदेश में जितने नेशनल हाइवे आजादी के बाद बने,इतने चार साल में बना दिए गए हैं। जल स्वावलंबन के लिए प्रदेश पहले स्थान पर है।पेयजल एवं सिंचाई के लिए मुख्यमंत्री ने 52 हजार करोड़ रुपए की योजना की क्लियरेंस दी है। इसमें ईआसीपी योजना में 37 हजार करोड़ का बजट है।खैरथल और किशनगढ़बास नगर पालिका के लिए पीएचईडी मंत्री ने 82 करोड़ रुपए दिए हैं। मेरी विधानसभा में राजकीय महाविद्यालय खोलने के लिए आभारी हूं।

रामहेत यादव

X
समझा, कैसे होता है एनसीआर के पैसे का उपयोग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..