Home | Rajasthan | Khiwsar | नागौर में भी होने लगी अमेरिकन औषधीय फसल किनोवा की खेती

नागौर में भी होने लगी अमेरिकन औषधीय फसल किनोवा की खेती

नागौर जिले में खींवसर के पास स्थित गांव बैराथल खुर्द में एक किसान ने अमेरिकी औषधीय फसल किनोवा की पैदावार कर नया...

Bhaskar News Network| Last Modified - Apr 24, 2018, 04:45 AM IST

नागौर में भी होने लगी अमेरिकन औषधीय फसल किनोवा की खेती
नागौर में भी होने लगी अमेरिकन औषधीय फसल किनोवा की खेती
नागौर जिले में खींवसर के पास स्थित गांव बैराथल खुर्द में एक किसान ने अमेरिकी औषधीय फसल किनोवा की पैदावार कर नया नवाचार किया है। बहुत कम पानी में सिंचाई से पकने वाली किनोवा की फिलहाल राजस्थान में कोई मंडी नहीं है, मगर मध्यप्रदेश की नीमच मंडी में इसकी अच्छी बोलियां लगती है। जोधपुर जिले के भोपालगढ़ निवासी किसान नैनापुरी गोस्वामी ने खींवसर के गांव बैराथल खुर्द में खेती के लिए जमीन ली और किनोवा की फसल बोई। भोपालगढ़ में इस वर्ष कृषि विभाग द्वारा किनोवा बीज के मिनीकिट बांटे गए थे। नैनापुरी ने 4 बीघा में किनोवा फसल की बुआई कर 18 क्विंटल की पैदावार ली है। किनोवा का अंतरराष्ट्रीय बाजार भाव 50 हजार से एक लाख रुपए प्रति क्विंटल तक भाव है। ऐसे में यह फसल किसानों के लिए कम खर्च में अधिक मुनाफे वाली फसल साबित हो सकती है। किनोवा की फसल उष्ण कटिबंधीय जलवायु में पैदा होती है।

बंजर भूमि में भी पक जाती है किनोवा : किनोवा की फसल को बंजर खेती के नाम से भी जाना जाता है। इस फसल को पशु भी नहीं खाते। इसमें कोई रोग भी नहीं लगता। इससे किसान को कीटनाशक दवाओं का उपयोग भी नहीं करना पड़ता है।

खाने और दवा के काम आता है किनोवा : अमेरिका व अन्य देशों में किनोवा को लोग भोजन के रूप में काम लेते हैं। वहां के लोग किनोवा की खिचङ़ी चाव से खाते हैं। किनोवा में आयरन, विटामिन सहित कई पोषक तत्व होने से इसका उपयोग दवा बनाने में भी होता है।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |