--Advertisement--

पांच टीमें करेंगी मिलावट की जांच

भास्कर न्यूज|मदनगंज-किशनगढ़ शहर में होली की मस्ती परवान पर है। होली के रसिये गाने, बजाने, नाचने के साथ ही सुबह से...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:00 AM IST
भास्कर न्यूज|मदनगंज-किशनगढ़

शहर में होली की मस्ती परवान पर है। होली के रसिये गाने, बजाने, नाचने के साथ ही सुबह से रात तक मिठाई-नमकीन की मनुहार करने लगे हैं। इस मनुहार का मान रखते वक्त यह ध्यान रखना जरूरी है कि कहीं मिठाई खाते ही आप भांग के नशे में न झूमने लगे। वजह, अजमेर जिला सहित किशनगढ़ उपखंड में ऐसे कई लोग, दुकानें हैं जो होली के लिए खास मिठाई, नमकीन बनाते हैं। इनमें भांग की मिलावट होती है।

हालांकि आमतौर पर इन्हें वे ही लोग खाते हैं जो भांग पीने के अभ्यस्त हैं या इन मिठाइयों के शौकीन हैं। इनके मिलने का पता भी वे ही जानते हैं लेकिन इस खबर पर स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। होली के मौके पर मिलावटी खाद्य पदार्थों की जांच करने के लिए विशेष अभियान शुरू कर रहा है। जिलेभर में जांच के लिए पांच टीमें बनाई गई है। इनमें से दो टीमें अजमेर शहर और बाकी टीमें किशनगढ़, ब्यावर, केकड़ी, मसूदा, सरवाड़, पुष्कर सहित अन्य क्षेत्रों में जांच करेंगी। ये टीमें मिठाई में खराब मावे, कैमिकल कलर आदि की जांच करने के साथ ही खासतौर पर भांग की मिलावट पर भी नजर रखेंगी।

मेडिकल सर्वे, भांग सेवन से बढ़ रहे डिप्रेशन रोगी : इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल एंड रिसर्च आईसीएमआर की एक मल्टी सेंटर स्टडी में लगभग 50 हजार घरों में सर्वे किया गया। यह सामने आया कि भांग सेवन रिवाज की तरह चल रहा है। युवा पीढ़ी भी इसकी चपेट में रही है। एक बड़ा नुकसान यह है कि नशे की लत कई युवाओं को डिप्रेशन सहित दूसरी मानसिक बीमारियों की ओर ले जाती है।