• Home
  • Rajasthan News
  • Kishangarh News
  • यज्ञनारायण अस्पताल में पांच दिन में दूसरे नवजात की मौत, परिजनों ने किया हंगामा
--Advertisement--

यज्ञनारायण अस्पताल में पांच दिन में दूसरे नवजात की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल में बुधवार को नवजात की मौत का मामला सामने आया। गुस्साए परिजनों ने नवजात की मौत के बाद...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:00 AM IST
राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल में बुधवार को नवजात की मौत का मामला सामने आया। गुस्साए परिजनों ने नवजात की मौत के बाद हंगामा मचा दिया। जिससे अस्पताल में माहौल गर्मा गया। सूचना पर मदनगंज थाना पुलिस मौके पर पहुंची और नवजात के शव का पोस्टमार्टम कराया। इधर लेबर रूम में प्रवेश को लेकर विवाद हो गया। मौके पर डिप्टी कंट्रोलर ने पहुंचकर समझाइश करवाकर मामले को शांत कराया। मामले की जांच डिप्टी कंट्रोलर कर रहे है। मालूम हो कि पांच दिन में नवजात की मौत का ये दूसरा मामला है।

अस्पताल में उदयपुर खुर्द निवासी 20 वर्षीय सुमन को प्रसव पीड़ा होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। दोपहर 2 बजे प्रसूता ने नवजात बच्ची को जन्म दिया। जन्म के कुछ देर बाद नवजात की मौत हो गई। नवजात की मौत पर परिजनों ने हंगामा खड़ा कर दिया। परिजनों ने अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की।

लेबर रूम में प्रवेश पर भी विवाद


अस्पताल में नवजात की मौत के बाद हुए घटना की जानकारी लेती पुलिस।

पहला मामला अभी सुलझा भी नहीं और दूसरा केस हो गया

दोपहर 2 बजे हुआ बच्ची का जन्म, आधे घंटे में बिगड़ी तबीयत

प्रसूता के भाई कृष्णापुरी निवासी मदन गोपाल ने बताया कि बच्ची का जन्म दोपहर 2 बजे हो गया। दोपहर 2.30 बजे नर्स ने बच्ची के ठीक होने की बात कहते हुए मुंह में पानी जाने की बात कही। बच्ची को नर्सरी में शिफ्ट किया गया। कुछ देर में बच्ची को रेफर करने की बात कह दी। परिजन एंबुलेंस का इंतजाम करने गए तो नर्सिंग स्टाफ ने बच्ची की मौत की जानकारी दी।

डिप्टी कंट्रोलर ने कहा: वसूली का केंद्र बना हुआ गायनिक वार्ड

पत्रकारों से उलझी नर्स

इस दौरान कवरेज के लिए आए पत्रकारों से भी नर्स ने उलझ गई। ये भी विवाद बन गया। मौके पर डिप्टी कंट्रोलर डॉ. पीसी पाटनी ने पहुंचकर नर्स और पीड़ित को बुलाकर घटना की जानकारी दी। पाटनी ने नर्स के समक्ष भी नाराजगी जताई। मौके पर मदनगंज थाना प्रभारी जोगेंद्र सिंह मय जाप्ता मौके पर पहुंच गए और समझाइश का प्रयास किया। नवजात के शव का पोस्टमार्टम कराया गया। मामले की जांच डिप्टी कंट्रोलर कर रहे है।


राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल में आए दिन बढ़ रहे विवादों पर बुधवार को डिप्टी कंट्रोलर डॉ. पीसी पाटनी ने नाराजगी जताई। डॉ. पाटनी ने बताया कि अस्पताल में गायनिक वार्ड वसूली का केंद्र बना हुआ है। हालत यह है कि गायनिक वार्ड में बच्चें के जन्म के बाद परिजनों से बधाई के नाम पर जबरन पैसे वसूले जाते हैं। यहां तक की सहायिका, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी रोजाना अस्पताल में आती हैं। ये भी धांधली करती हैं। सहायिका, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता प्रसूताओं और उनके परिजनों से कभी सोनोग्राफी के नाम पर पैसे मांगती हैं और कभी किसी दूसरे मामले में। वे पैसे देने पर पहले सोनोग्राफी करवा देती हैं। इसमें सोनोग्राफी कक्ष में बैठने वाला कर्मचारी भी शामिल है। ये सब मिलीभगत कर पैसे वसूल रहे हैं। अस्पताल कें डिप्टी कंट्रोलर पाटनी ने कहा कि वे खुद इस धांधली से परेशान हो गए हैं।

परिजनों का आरोप, अस्पताल में नर्स ही डॉक्टर बन बैठे हैं

बच्ची की मौत की सूचना मिलते ही परिजनाें का गुस्सा फूट पड़ा। परिजनों ने बच्ची की मौत पर अस्पताल परिसर में हंगामा मचाना शुरू कर दी। परिजनों ने नर्सिंग स्टाफ पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। इसके साथ ही कहा कि राजकीय यज्ञनारायण अस्पताल में नर्स ही डॉक्टर बने बैठे है। उल्लेखनीय है कि पांच दिन में दो घटनाएं हाेने से मरीजों की चिंता बढ़ने लगी हैं।