• Home
  • Rajasthan News
  • Kishangarh News
  • एयरपोर्ट कंस्ट्रक्शन में बेस्ट, ग्रीन प्रोजेक्ट भी उम्दा...लेकिन विमान उड़ाने में फिसड्डी
--Advertisement--

एयरपोर्ट कंस्ट्रक्शन में बेस्ट, ग्रीन प्रोजेक्ट भी उम्दा...लेकिन विमान उड़ाने में फिसड्डी

किशनगढ़ एयरपोर्ट को भले ही हाल ही में बेस्ट कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट, ग्रीन प्रोजेक्ट, बेस्ट पब्लिक ऑफिसर्स आैर...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 05:05 AM IST
किशनगढ़ एयरपोर्ट को भले ही हाल ही में बेस्ट कंस्ट्रक्शन प्रोजेक्ट, ग्रीन प्रोजेक्ट, बेस्ट पब्लिक ऑफिसर्स आैर बेस्ट सुपरवाइजर का अवार्ड मिल चुका हो, लेकिन नियमित विमान संचालित करने में हमारा एयरपोर्ट फिसड्डी है। जबकि अब तक किशनगढ़ से दिल्ली आैर मुंबई के लिए नियमित फ्लाइट्स प्रारंभ नहीं हो सकी है, तो अवार्ड किस बात के मिले हैं इस पर सवालिया निशान हैं। हालांकि अब कहा जा रहा है कि जल्द ही दिल्ली के लिए नियमित उड़ानें प्रारंभ होंगी।

रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम (आरसीएस) में दिल्ली से किशनगढ़ आैर किशनगढ़ से दिल्ली के लिए नियमित फ्लाइट्स के संचालन का जिम्मा स्पाइस जेट एयरलाइंस को मिला है, इसके लिए समस्त प्रक्रिया पूरी हो चुकी हैं, लेकिन नियमित फ्लाइट्स कब शुरू होंगी, इस बारे में फिलहाल कुछ स्पष्ट नहीं है। छह माह के बीच यदि नियमित फ्लाइट्स शुरू नहीं की गई तो नियमानुसार संबंधित एयरलाइंस की सिक्यूरिटी जब्त करने की कार्रवाई अमल में लाई जाती है। इधर, सुप्रीम एयरलाइंस ने भी दिल्ली के लिए 11 अप्रैल से शिड्यूल दिया है।

बड़ा सवाल

कब शुरू होंगी नियमित फ्लाइट्स

एयरपोर्ट एक्सटेंशन की प्लानिंग शुरू, लेकिन नियमित फ्लाइट्स नहीं

यह पहला ऐसा एयरपोर्ट है जहां उद्घाटन के छह माह बाद भी नियमित फ्लाइट्स प्रारंभ नहीं हो सकी। अजमेर-पुष्कर आने वाले सैलानियों को नियमित उड़ानों का बेसब्री से इंतजार है, लेकिन यह इंतजार कब खत्म होगा, इसका जवाब एयरपोर्ट प्रशासन के पास नहीं है। एयरपोर्ट के एक्सटेंशन की प्लानिंग तक शुरू हो चुकी है, लेकिन फ्लाइट्स का अता-पता नहीं है। एयरलाइंस को चिंता सता रही है कि किशनगढ़ एयरपोर्ट से यात्रीभार तो मिलेगा या नहीं? इधर, एयरपोर्ट डायरेक्टर ने जल्द ही दिल्ली के लिए नियमित फ्लाइट्स प्रारंभ होने का दावा किया है। 11 अप्रैल को सुप्रीम एयरलाइंस द्वारा दिल्ली के लिए शिड्यूल दिया गया है।

हकीकत...रोजाना बुक नहीं हो पा रही हैं नौ सीटंे

सुप्रीम एयरलाइंस द्वारा किशनगढ़ से उदयपुर आैर उदयपुर से किशनगढ़ के लिए फ्लाइट्स संचालित की जा रही हैं, 9 सीटर विमान इस सेवा में है। लेकिन उदयपुर जाने के लिए आैर न ही वहां से किशनगढ़ आने के लिए विमान की 9 सीटें रोजाना बुक नहीं हो पा रही हैं। कई बार तो ऐसी स्थिति आती है, जिसमें एक भी यात्री नहीं मिलने के कारण फ्लाइट कैंसिल करनी पड़ रही है। अब जो अन्य एयरलाइंस यहां से विमानों का संचालन करेंगी उन्हें यात्रीभार की चिंता सताने लगी है, इस वजह से डिले हो रहा है।

आनन-फानन में शुभारंभ, अब छह माह बाद तक दूर की जा रही हैं खामियां



अधर में उम्मीदें

एयरलाइंस को सता रही है यात्रीभार की चिंता

कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि 161 करोड़ रुपए की लागत और 441 एकड़ जमीन पर बना किशनगढ़ एयरपोर्ट अब खेल के मैदान में तब्दील हो गया है। प्रतिदिन 3600 यात्रियों के आवागमन की क्षमता वाले एयरपोर्ट से महज 9 यात्री प्रतिदिन सफर कर रहे हैं। इससे भाजपा के खोखले दावों की पोल खुल रही है। भाजपा ने झूठी वाहवाही लूटने के लिए 11 अक्टूबर 2017 को आनन फानन में किशनगढ़ एयरपोर्ट का उद्घाटन कर दिया, लेकिन फ्लाइट्स अब तक प्रारंभ नहीं हो सकी। सांसद रघु शर्मा ने दिल्ली में केंद्रीय उड्डयन मंत्री जयंत सिन्हा से मुलाकात कर किशनगढ़ एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए नियमित फ्लाइट्स प्रारंभ करने का मुद्दा उठाया था।


राजनीतिक बोल...

सांसद रघु शर्मा पिछले दिनों उठा चुके हैं एयरपोर्ट का मुद्दा

11 अप्रैल का मिला है दिल्ली के लिए शिड्यूल